featured यूपी

लखनऊः पुलिस लगाना चाहती है लगाम, ऑटोलिफ्टिर है बेलगाम

लखनऊः पुलिस लगाना चाहती है लगाम, ऑटोलिफ्टिर है बेलगाम

लखनऊः अपराध निंयत्रण का दावा करने वाली राजधानी पुलिस ऑटोलिफ्टिंग गैंग से इस कदर परेशान है। यह गैंग को लगातार पुलिस को चुनौती देकर शहर के विभिन्न इलाकों से बाइक चोरी की घटनाओं के अजाम दे रहा है। इसके अलावा गैंग के सदस्य सड़क पर चलने वाले राहगीरों का मोबाइल और चेन लूटकर फरार हो जाते हैं। हालांकि, पुलिस ऑटोलिफ्टिंग गैंग का पर्दाफाश कर आरोपितों को जेल की चाहरदीवारी में कैद कर देती है। इसके बावजूद शहर में ऑटोलिफ्टिंग की घटनाएं न तो कम हो रहीं। और न ही इस गिरोह में कमीं आ रही बल्कि रोजाना नए गिरोह समाने आ रहे हैं।  यह बात हम नहीं बता रहे आपके बल्कि हफ्ते भर के अंदर पुलिस ने कई गिरोह का पर्दाफाश किया है। यही अपनी हकीकत बयां कर रहें हैं। जो सिर्फ बानगी मात्र हैं ।

पहली घटना: काटकर बेचते थे चोरी बाइक और ई-रिक्शा

29 जून को विभूतिखंड पुलिस ने चोरी की बाइक और ई-रिक्शा को काटकर बेचने वाले गैग के सरगना नौशाद उर्फ राजू और कबाड़ी समेत चार आरोपितों को गिरफ्तार किया था । पुलिस ने उनके पास नौ बाइक, तीन ई-रिक्शा और ऑटो पार्ट्स को बरामद किया था । पड़ताल में पता चला कि नौशाद और उसके साथी अस्पताल, बाज़ार और सड़क किनारे खड़ी गाड़ियों की चोरी करते थे। इसके बाद आरोपित गाड़ी को काटकर इंजन निकल लेते थे। फिर वह कबाड़ी चांदबाबू को बेचते थे। आरोपित बाइक का इंजन पांच हजार और ई-रिक्शा की बैटरी को आठ हजार रुपए में बेचते थे।  फिलहाल पुलिस ने गैंग का पर्दाफाश कर आरोपितों को जेल भेज दिया है।

दूसरी घटना: दूसरे जनपद में बेचते थे चोरी की बाइक

02 जुलाई को चिनहट पुलिस ने तीन ऑटोलिफ्टर को अपट्रान तिराहे से हिरासत में लिया था। उस वक्त पुलिस को आरोपित के पास चोरी की हुई एक बाइक मिली थी। फिर पुलिस आरोपितों को उठाकर थाने ले आई। पड़ताल में पता चला कि गैंग के सदस्य नकली चाभी से बाइक का लॉक खोलकर भाग जाते थे और नंबर प्लेट बदलकर गैर जनपद में उसे कम दामों में बेच देते थे। पुलिस ने आरोपितों की निशानदेही पर उनके कब्जे से 11 चोरी की बाइक बरामद भी की है। इसके बाद पुलिस ने ऑटोलिफ्टिंग गैंग का पर्दाफाश कर आरोपितों को जेल भेज दिया है।

तीसरी घटना: चेंकिग में पड़के गए दो ऑटोलिफ्टर

25 जून को काकोरी कोतवाली पुलिस ने चेकिंग के दौरान दो ऑटोलिफ्टर को गिरफ्तर किया था। इस दौरान पुलिस को आरोपितों को हिरासत में लेकर थाने ले आई। पड़ताल में पता चला कि आरोपित ऑटोलिफ्टिंग की घटनाओं को अंजाम देते हैं। इसके बाद पुलिस ने आरोपितों की निशानदेही पर चोरी की गई चार बाइक और एक स्कूटी बरामद की थी। फिर पुलिस ने आरोपितों पर मुकदमा दर्ज कर उन्हें सलाखों के पीछे भेज दिया है।

चौथी घटना: बाइक चोरी कर बेचते थे पार्ट्स

ठाकुरगंज पुलिस ऑटोलिफ्टिर गैंग पर शिंकजा करने के लिए लगातार दबिश दे रही है। 28 जून को पुलिस ने गुप्त सूचना के तहत ऑटोलिफ्टिंग गैंग के तीन सदस्यों गिरफ्तार कर उन्हे सलाखों के पीछे भेज दिया है। पुलिस को आरोपितों के पास से चोरी की गई 10 बाइक, 08 मोबाइल फोन और 02 स्कूटी भी बरामद हुई थी। पड़ताल में पता चला कि आरोपित कई इलाकों से ऑटोलिफ्टिंग की घटना को अंजाम देते थे। इसके बाद वह गाड़ियों के पार्ट्स निकलाकर बेच देते थे। पुलिस ने पकड़े गए आरोपित की पहचान इफरान, आदित्य और निर्भय के रूप में की थी। फिलहाल पुलिस ने आरोपितों पर मुकदमा दर्ज कर उन्हें सलाखों की पीछे भेज दिया है।

जेल में आकाओं से हो जाती है दोस्ती

आईपीएस अफसर रमेश भारतीय के मुताबिक, शहर में ऑटोलिफ्टिर गैंग सक्रिया है। पुलिस लगातार गैंग का पर्दाफाश कर आरोपितों को सलाखों के पीछे भेज देती है। इसके बावजूद आरोपित जेल से छूटने के बाद दोबारा ऑटोलिफ्टिंग की घटनाओं को अंजाम देते हैं । वजह जब वह जेल पहुंच जाते हैं, तो उनकी दोस्ती जेल में पहले ही बंद कुख्यात अपराधियों से हो जाती है। जो उन्हें सुधरने का मौका नहीं देते हैं। बताया कि वह रिहाशयी शौक पूरा करने के लिए नाबालिग भी ऑटोलिफ्टिंग की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। हालांकि, शहर में कितने सक्रिय गैंग है, इसको पुष्टि करना पुलिस के लिए एक चुनौतीपूर्ण है।

पुलिस फौरन लेती है एक्शन

डीसीपी सैय्यद मोहम्मद कासिम आब्दी के मुताबिक, पुलिस लगातार ऑटोलिफ्टर गैंग का पर्दाफाश करने में जुटी है। गैंग के सदस्यों व सरगना पर लगातार कड़ी कार्रवाई की जाती है। कई बार सामने आया है कि आरोपी चोरी के मामले में पहले भी जेल जा चुके हैं। इसके बावजूद वह सुधरने का नाम नहीं लेते हैं। फिलहाल पुलिस इन पर भी कड़ी कार्रवाई करती है।

Related posts

संजय झील के बाद गाजीपुर पोल्ट्री मार्केट बंद, सीएम केजरीवाल ने किया ऐलान

Aman Sharma

खड़गे ने साधा मोदी पर निशाना, कहा रेलवे किसी की निजी संपत्ति नहीं

Rahul srivastava

 अमरीका की एसटीए-1 की सूची में भारत समेत 36 देशों के नाम शामिल

rituraj