November 29, 2022 3:45 pm
featured यूपी

स्मार्ट सिटी के नाम पर खोद दिया गया है लखनऊ!

स्मार्ट सिटी के नाम पर खोद दिया गया है लखनऊ!

लखनऊ: हाल ही में राजधानी स्थित नगर निगम मुख्यालय में महापौर संयुक्ता भाटिया की अध्यक्षता में नगर निगम सामान्य सदन की बैठक हुई। नगर निगम का ये सदन काफी हंगामेंदार रहा। इस सदन में कई अहम प्रस्ताव पास भी हुए। वहीं इस सदन में पार्षदों ने नगर निगम प्रशासन को समस्याओं से अवगत भी कराया।

सदन में पार्षदों ने निगम की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाये और कहा कि, बारिश में जल भराव की समस्या लगातार बढ़ती जा रही है। कई सड़कें धंस चुकी हैं, लखनऊ को स्मार्ट सिटी के नाम पर बर्बाद किया जा रहा है। इस सदन में कौन सी समस्याओं को प्रमुखता दी गई, इसपर भारतखबर.कॉम की टीम ने लखनऊ के कुछ पार्षदों से बातचीत की है, पढ़िए हमारी एक विशेष रिपोर्ट…

स्मार्ट सिटी के नाम पर खोद दिया गया है लखनऊ: नागेन्द्र सिंह

पार्षद नागेन्द्र सिंह ने बताया कि इस सदन में लखनऊ की दुर्दशा पर हमने आवाज़ बुलंद की। उन्होंने कहा, ‘स्मार्ट सिटी के नाम पर पूरा लखनऊ खोद दिया गया है। जल निगम बिना गुणवक्ता जांचे पाइप लाइन बिछाई जा रही है। सड़कें धंस रही है, उसको दोबारा से बनाया नहीं जा रहा है। आज लखनऊ अपनी दुर्दशा पर रो रहा है।’

नागेन्द्र सिंह ने कहा, ‘सदन में इसकी आलोचना हुई थी। जब पार्षदों का गुस्सा नगर निगम प्रशासन ने देखा तो खाना-पूर्ती करने के लिए एक एरिये के प्रोजेक्ट मैनजर को बुलाया गया। आज पूरे शहर को सीवर लाइन के नाम पर तहस-नहस कर दिया गया है। मेन होल तक सही ढंग से नहीं बनाए गए हैं। सदन में प्रशासन द्वारा आश्वासन दिया गया है कि मुख्यमंत्री को इससे अवगत कराया जाएगा।’

कोशिशों में कमी नहीं बरत रहीं मेयर: ममता चौधरी

वहीं पार्षद ममता चौधरी ने भी कहा है कि जल निगम के कार्य से पूरा लखनऊ पभावित हो रहा है। उन्होंने कहा, ‘चूंकि जल निगम हमारे अधीन आता नहीं है इसलिए सदन में कोई उच्च अधिकारी नहीं मौजूद था। हालांकि एक क्षेत्र के प्रोजेक्ट मैनेजर को बुलाया गया था। प्रोजेक्ट मैनेजर के हिसाब से अगस्त तक काम ख़त्म हो जायेगा, अगर उसकी जगह जीएम ये बात कहता तो शायद इसमें ज्यादा वजन होता।’

ममता चौधरी का कहना है कि महापौर संयुक्ता भाटिया समस्याओं को सुनने के लिए तत्पर रहती हैं और उनके निस्तारण के लिए प्रयासरत रहती हैं। उन्होंने कहा, ‘शासन स्तर पर कोई सुनना वाला नहीं है। महापौर को इस स्थिति से मुख्यमंत्री को अवगत कराना पड़ेगा। सरकार नगर निगम की अनदेखी करती है।’

‘नगर निगम के इस सदन में कई मुद्दों को पार्षदों द्वारा उठाया गया है। इसके निस्तारण के लिए कार्य भी किए जा रहे हैं। मुख्य समस्या सीवर लाइन से जुड़ी है। जल निगम का कहना है कि अगस्त माह के अंत तक इस काम को लगभग-लगभग पूरा कर दिया जाएगा।’

अमित कुमार

अपर नगर आयुक्त

नगर निगम लखनऊ    

Related posts

भविष्यवाणी : आने वाले समय में पृथ्वी पर होगा परिवर्तन, सूरज की आग धरती को झुलसा देगी !

Rahul

पश्चिम बंगाल में 2 और राजस्थान में 3 सीटों पर वोटिंग, माना जा रहा सेमीफाइनल

Rani Naqvi

परिवारवाद के मुद्दे पर अखिलेश यादव का ‘मास्टर स्ट्रोक’, डिंपल यादव नहीं लड़ेंगी चुनाव

Pradeep sharma