लखनऊ: धरने पर बैठे स्वास्थ्यकर्मी, जानिए क्या है मामला

लखनऊ: राजधानी स्थित सीएमओ कार्यालय पर आज सैकड़ों की संख्या में स्वास्थ्य कर्मचारी धरना देने पहुंचे। धरने पर बैठे स्वास्थ्य कर्मियों का कहना है कि वे ट्रान्सफर नीति का विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि हम अभी कोरोना की दूसरी लहर से उभरने की कोशिश ही कर रहे थे कि तभी स्थानांतरण की सूचना हमें मिली। उनका कहना है कि हमारे कई साथियों की पोस्टिंग बहुत दूर कर दी गई है जिसका विरोध हम कर रहे हैं।

यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के बैनर तले प्रदर्शन

बता दें कि मुख्य चिकित्साधिकारी कार्यालय पर जारी इस धरने का आयोजन यूपी मेडिकल एंड पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्रियल एसोसिएशन के बैनर तले हुआ। धरना दे रहे कर्मचारियों का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत चिकित्सकों एवं कर्मचारियों को सामान्य स्थानांतरण से मुक्त रखे जाने और केवल अनुरोध पर स्थानांतरण कराए जाने निर्णय के विपरीत प्रशासन द्वारा मनमाने एवं अनियमित स्थानांतरण की कार्यवाही की जा रही है।

कर्मचारियों का कहना है कि निदेशक (प्रशासन) डॉ. राजा गणपति आर (चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं यूपी) द्वारा सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में कार्यरत लिपिक वर्गीय कर्मियों के स्थानांतरण कर दिए गए जो अधिकतम सीमा के विपरीत है। कर्मचारियों का यह भी कहना है कि निदेशक (प्रशासन) द्वारा 250 महिला कर्मियों को उनके वर्तमान तैनाती स्थल से लगभग 300 किमी से लेकर 1000 किमी से अधिक दूरी पर स्थानांतरित किया गया है। धरना दे रहे कर्मचारियों का कहना है हम सरकार से निवेदन कर रहे हैं कि इस तरह की ट्रान्सफर नीति को तत्काल प्रभाव से निरस्त किया जाए।

ICMR के चौथे सीरो सर्वे में खुलासा, देश की करीब 40 करोड़ आबादी को अब भी है कोरोना संक्रमण का खतरा

Previous article

लखनऊ: कल्याण सिंह का हाल जानने SGPGI पहुंची यूपी की राज्यपाल

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured