October 28, 2021 10:06 pm
Breaking News featured देश

कैट का दावा- किसान आंदोलन की वजह से हुआ 14 हजार करोड़ का नुकसान, केंद्र से की मसले को जल्द सुलझाने की मांग

feecf9f8 3f09 4e9e 8db3 92c70c043f3c कैट का दावा- किसान आंदोलन की वजह से हुआ 14 हजार करोड़ का नुकसान, केंद्र से की मसले को जल्द सुलझाने की मांग

नई दिल्ली। कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन को आज 27वां दिन है। किसान अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं। इसके साथ ही दूसरे राज्यों के किसान भी अब दिल्ली की तरफ कूच कर रहे हैं। किसानों और सरकार के बीच हुई कई दौर की बातचीत में कोई भी निष्कर्ष नहीं निकल पाया है। किसान आंदोलन के चलते पुलिस ने दिल्ली के बाॅर्डरों को सील कर दिया है। इसके साथ ही किसान आंदोलन के चलते भारी नुकसान को देखा जा सकता है। ऐसे ही आकंड़े कंफेडरशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने जारी किए हैं। आंकड़े के मुताबिक किसान आंदोलन से अब तक करीब 14,000 करोड़ रुपए के व्यापार का नुकसान हो चुका है। किसान आन्दोलन के चलते व्यापार को हो रहे करोड़ो रुपये के नुकसान का हवाला देते हुए कैट ने किसान नेताओं और केंद्र सरकार से अपील करते हुए बातचीत से इस मसले को तुरंत सुलझाने की मांग की है। इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि जनता की परेशानियों को देखते हुए वैकेशन बेंच इस मामले की तुरंत सुनवाई की तारीख निश्चित करे।

20 प्रतिशत ट्रक देश के अन्य राज्यों से सामान दिल्ली नहीं ला पा रहे- कैट

बता दें कि कंफेडरशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स की तरफ से कहा गया कि दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 26 दिन से धरने पर बैठे हुए कुछ राज्यों के किसानों के आंदोलन से दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान व उत्तर प्रदेश के क्षेत्रों में अब तक लगभग 14 हज़ार करोड़ रुपए के व्यापार का बड़ा नुकसान हो चुका है। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स कैट ने व्यापारियों को हो रहे नुकसान से जुड़ा हुआ आंकड़ा पेश करते हुए कहा कि आंदोलन के कारण लगभग 20 प्रतिशत ट्रक देश के अन्य राज्यों से सामान दिल्ली नहीं ला पा रहे हैं। इसके चलते दिल्ली से अन्य राज्यों को भेजे जाने वाले सामान पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। कैट के मुताबिक दिल्ली में प्रतिदिन लगभग 50 हजार ट्रक देश भर के विभिन्न राज्यों से सामान लेकर दिल्ली आते हैं और लगभग 30 हजार ट्रक प्रति दिन दिल्ली से बाहर अन्य राज्यों के लिए सामान लेकर जाते हैं।

आंदोलन के कारण लंबा घूमकर आना पड़ रहा दिल्ली-

कैट के मुताबिक अन्य राज्यों से प्रमुख तौर पर एफएमसीजी प्रोडक्ट, लोगों के रोज़मर्रा के उपयोग का सामान, खाद्धयान, फल व सब्ज़ी, किराने का सामान, ड्राई फ़्रूट, इलेक्ट्रॉनिक्स, बिजली का सामान, दवाइयां, भवन निर्माण का सामान, लोहा-स्टील, कपड़ा, मशीनरी, बिल्डिंग हार्डवेयर, लकड़ी व प्लाइवुड, रेडीमेड वस्त्र आदि प्रतिदिन बड़ी संख्या में दिल्ली आते हैं। बड़ी मात्रा में ये सामान दिल्ली-जयपुर, दिल्ली-मथुरा, आगरा एक्सप्रेस वे, दिल्ली- गाजियाबाद हाई वे, दिल्ली-चंडीगढ़ हाई वे रास्तों से मुख्य रूप से आते हैं। क्योंकि यही हाई वे दिल्ली को देश के सभी राज्यों से जोड़ते हैं और इन हाई वे पर आंदोलन के कारण या तो रास्ते बंद है या लम्बे जाम लगे होने के कारण ट्रकों को काफी लम्बा घूम कर दिल्ली आना पड़ रहा है।

Related posts

जानिए: क्यों और कब से मनाया जाता है हिंदी दिवस

Rani Naqvi

दिल्ली पुलिस की सुरक्षा में रहेगी कोरोना वैक्सीन, रिहर्सल शुरू

Aman Sharma

उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा कि अपनी भाषा को बढ़ावा दें

Yashodhara Virodai