January 25, 2022 5:29 pm
Breaking News featured यूपी

सदन में सीएम योगी का सम्बोधन, फुलफार्म में नजर आये सीएम

Live- सदन में सीएम योगी का सम्बोधन

लखनऊ: लोकतंत्र की सबसे बड़ी ताकत संवाद है, सहमति असहमति हो सकती है। योगी ने कहा 48 सदस्यों का राज्यपाल अभिभाषण में शामिल होना सराहनीय है, मैं चाह रहा था कि और लोग शामिल हों।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संबोधन में कहा कि हमें राज्यपाल राष्ट्रपति जैसे सम्मानित पदों का आदर करना चाहिए। न्यायपालिका और विधायिका से जुड़े लोग राष्ट्र को मजबूत करते हैं। राज्यपाल और राष्ट्रपति जैसे पद पक्ष विपक्ष दोनों के लिए होते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धन्यवाद प्रस्ताव राज्यपाल के अभिभाषण – सभी दलों ने रुचि से इसमें भाग लिया और लोकतंत्र के इस मंदिर में अपने दल के अनुरूप संवाद किया, आपस मे असहमति जरूर हो सकता है लेकिन संवाद का यह सिलसिला चलते रहना चाहिए, 48 सदस्यों ने इसमें भाग लिया।

राज्यपाल के प्रति हदय से आभार जिन सदस्यों ने इसमें भाग लिया उन्हें भी ह्रदय से धन्यवाद, परिपाटी अच्छे चीजो से बनती है, लेकिन नेता प्रतिपक्ष का नाम लिए बगैर कहा गलत पार्टी में होने के कारण भटक जाते है, मैं उनका सम्मान करता हुए। परिपाटी अच्छी होनी चाहिए। राज्यपाल जब आती है तो सत्ता पक्ष और विपक्ष का काम है वह सम्मान करें।

कोई भी प्रतिकूल टिप्पणी नही होनी चाहिए लेकिन जैसा हुआ वह पीड़ा दायक है। सर्प तू नगर नहीं गया , कहां से विष पाया कहा से सीखा तूने डसना , यह कविता मुख्य्यमंत्री ने पढ़ी। विपक्ष के राज्यपाल अभिभाषण में विपक्ष के विरोध के लिए आगे बोलते हुए कहा कि कही सदन को लोग नौटंकी न समझ ले कोई लाल टोपी कोई नीली टोपी कोई पीली टोपी विपक्ष पर किया कटाक्ष।

एक वक्तव्य का जिक्र करते हुए कहा टोपी पहले वाले लोगो के लिए यह धारणा बन गई है गुंडा , गुंडा , नेता प्रतिपक्ष को कहा आप पगड़ी पहनकर आते या साफ़ा पहनकर आते तो अच्छा है, नेता प्रतिपक्ष को कहा इस उम्र में यह सब शोभा नही देता।

सीएम ने टोपी पर ली चुटकी

इस विधायिका को ड्रामा कम्पनी ना मान ले, कोई लाल टोपी कोई हरी टोपी? पता नहीं ये क्या परिपाटी बन गई है? पता नहीं ये लोग घर पर भी टोपी पहन कर रहते या नहीं।

एक कार्यक्रम में था, टोपी पहनकर आने वाले को ढाई साल के बच्चे ने कहा “मम्मी-मम्मी ये देखो गुंडा”। CM ने नेता प्रतिपक्ष को लपेटते हुए कहा-आप गमछा बांध कर आते तो अच्छा लगता, इस नाटक से तो बेहतर होता। सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि राजसत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों का विषय है।

अपने संबोधन में योगी ने कहा कि हमारी परिपाटी अच्छी होनी चाहिए। हमारे नेता प्रतिपक्ष सहज और सरल है, संवैधानिक प्रमुखों का भी सम्मान होना चाहिए। सदन ने 36 घंटे संविधान दिवस के दिन भी चर्चा की, यह विषय की लोकतंत्र को मजबूत बनाते हैं।

अयोध्या होकर जाने से डरता है विपक्ष

योगी ने कहा नेता प्रतिपक्ष सीधे नहीं बोलते! जैसे बलिया जाना होगा तो आगरा जयपुर होते हुए जाते हैं? अरे गोरखपुर होते या मऊ होकर चले जाते! लेकिन बीच में अयोध्या पड़ती है। शायद इसलिए उधर से जाने में डरते हैं। नेता प्रतिपक्ष अपने विशिष्ट अन्दाज़ में बोलते हैं। बलियाटिक भाषा में उनका अन्दाज़ ख़ास होता है।

cm yogi adiyanath सदन में सीएम योगी का सम्बोधन, फुलफार्म में नजर आये सीएम

सीएम ने कहा 36 ज़िलों में वेंटिलेटर नहीं थे, जाँच की सुविधा नहीं थी। 2 लाख जाँच क्षमता बढ़ाई, PPE किट पर आरोप लगाने वाले लगा सकते हैं लेकिन ये पाप होगा। केंद्र की HLL संस्था ने सप्लाई की, फिर भी हमने जाँच कराई। ताकि कहीं चूक ना हो, एक-एक PPE किट और अन्य उपकरणो की जाँच कराई। सीएम ने मेडिकल कॉर्पोरेशन को क्लीनचिट दे दी।

मुख्य्यमंत्री ने कहा पहले पल्स ऑक्सिमिटर की कीमत 5 हजार से 15 हजार तक थी। बाद में इसे हम 250 तक लेकर आये, 1800 से 4900 रुपये को कोड किया था लेकिन दिल्ली सरकार ने 10 हजार से लेकर 50 हजार तक थे। लेकिन जब एक मीडिया ने पूछा तो आज तक उनकी जबान नही खुली, हमे जो पैसे मिले उससे हेल्थ सेक्टर में काम किया।

जनता का पैसा जनता को

पहले हमें नही मालूम था कितने दिन लॉक डाउन चलेगा, पलायन इतनी बड़ी संख्या में होगा। इसके लिए पहले से कोई तैयार नहीं था। महत्वपूर्ण यह नहीं नेता प्रतिपक्ष जो भत्ता दिया जा रहा है वह कितना है, डूबते को तिनके का सहारा होता है। संगठित क्षेत्र के लेबर को दो बार पैसा और असंगठित क्षेत्र के लेबर को एक बार पैसा दिया गया मुफ्त में राशन दिया गया। हम लोगों ने अपने पास से नहीं दिया जनता का पैसा था, उन्हें ही दिया गया। राजस्थान सरकार से कहा कोटा के बच्चों को पहुंचा दें, वह तैयार नहीं हुए। फिर हमने अपनी बसों के जरिये कोटा, मध्यप्रदेश, उत्तराखंड के बच्चों को उनके घर तक पहुँचाया।

दान दाताओं का आभार

सीएम ने कहा आज भी सवा लाख से डेढ़ लाख टेस्ट चल रहे है। हमने मंत्रियों का समूह बना दिया फिर टीम 11 बना दिया, यह बैठक का सिलसिला आज भी चल रहा है। यूपी में एक्टिव केस सिर्फ 2000 ही है, अमेरिका और यूरोप के सामने यूपी का हेल्थ सेक्टर कही नही टिकता। मौत के आंकड़े रुके, WHO को भी उत्तर प्रदेश की सराहना करनी पड़ी। सभी दान दाताओं का आभार व्यक्त किया, एक वृद्ध महिला ने अपनी जीवन भर की पूंजी दान दे दिया।

pulse सदन में सीएम योगी का सम्बोधन, फुलफार्म में नजर आये सीएम

कहीं भी कोई भ्रष्टाचार नहीं

योगी आदित्यनाथ ने कहा लॉक डाउन शुरू होते ही दिल्ली सरकार ने यूपी के लोगों का बिजली पानी का कनेक्शन काट दिया। मीडिया में सुर्खियों में बने रहने के लिए ऐसे कहा जा सकता है लेकिन पल्स ऑक्सिमिटर, पीपीई किट और सेनेटाइजर को लेकर हमने भारत सरकार द्वारा अधिकृत प्रयोगशाला से जांच कराकर उसे उपयोग के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को उपलब्ध कराया।

इसमें किसी भी प्रकार का कोई भी भ्रष्टाचार नहीं हुआ। हमने ग्रामीण स्तर पर स्थानीय स्तर पर खरीदने की अनुमति दी। पल्स ऑक्सिमिटर 1100 का भी है और 50 हजार का भी मिल सकता है। महामारी का सफलतापूर्वक हमने सामना किया है।

कौन कर रहा अमेठी का अपमान

योगी ने राहुल का बिना नाम लिए कहा- उत्तर प्रदेश और अमेठी के लोगों को कौन अपमानित कर रहा, एक राष्ट्रीय पार्टी के कई बार सांसद रह चुके नेता उत्तर प्रदेश की खिल्ली उड़ाते हैं। इसके बाद कांग्रेस नेता लल्लू ने हंगामा करना शुरू कर दिया।

बयान पर हंगामा मचने के बाद योगी ने कहा- मैंने किसी का नाम तो नही लिया, लेकिन साबित हो गया चोर की दाढ़ी में तिनका है। हम तो केरल को आस्था की भूमि मानते हैं, आदि शंकराचार्य वहीं जन्मे थे, उन्होंने 4 पीठों की स्थापना की थी। कांग्रेस क्या कर रही है, वह विभाजनकारी राजनीति कर रहे हैं।

जो लोग विभाजनकारी राजनीति आज कर रहे हैं, पहले भी करते थे। आज भी पाकिस्तान और बांग्लादेश के लोग कहीं बाहर जाते है तो खुद को इंडियन कहते हैं क्योंकि पाकिस्तानी कहेंगे तो लात घुसे चलने लगेंगे। कोई भी भारत से हज करने जाता है उसे वहाँ हिन्दू ही कहा जाता है , हिन्दू से इतनी चिढ़ क्यों, उपासना के तरीके अलग हो सकते हैं।

मंदिर यहीं आकर याद आता है

जब उत्तर प्रदेश आएंगे तो मंदिर याद आता है, कहेंगे वृंदावन को बचाओ। आप क्या बचाएंगे, उसे वो तो कृष्ण की जन्मभूमि है। ये देश हमारा है,
इस तरह मत करिए।  सेना के शौर्य पर सवाल करना ,ये कैसी मानसिकता है?

भव्य राम मंदिर का काम 5 अगस्त को सम्पन्न हुआ , राज्यपाल के अभिभाषण में राम मंदिर का जिक्र हुआ तो इसमें क्या गलत है। यह तो देश के गौरव का विषय है, दुनिया ने राम को अपनाया है। अभी भी कुछ लोगों को राम नाम से समस्या है, उस समय में राक्षस लोग क्या करते है। मैं कांग्रेस सदस्य अदिति सिंह को धन्यवाद दूंगा जिन्होंने मंदिर निर्माण के लिए सहयोग दिया है।

1000 बस भेजने का था वादा

योगी ने कहा कोविड के दौरान भी यही किया गया, हमसे कहा गया 1000 बसे देंगे। मैं बहुत खुश हुआ, कांग्रेस महासचिव का पत्र आया। मैंने जांच करवाने के लिए दिया, तब पता चला जिसमें लिखा था बस उसमें स्कूटर निकाला , थ्री व्हीलर है। आधे वाहन स्क्रैप में जा चुके हैं। जब महामारी चल रही हो तो राजनीति करना उचित नहीं है। अमेठी जैसा हाल केरल में भी होगा।

2 करोड़ 37 लाख लोगों को सम्मान निधि उत्तर प्रदेश में दिया जा रहा है, दो साल पहले इसे प्रधानमंत्री ने गोरखपुर से शुरू किया था जिसका सर्टिफिकेट आज भारत सरकार की तरफ से आज दिया गया। किसान आंदोलन पर बोलते हुए योगी ने कहा एमएसपी घोषणा से एमएसपी नहीं मिलता, इसके लिए क्रय केंद्रों की स्थापना करनी पड़ती है। एमएसपी 1967 से लागू है, लेकिन मिलती कहां थी।

Related posts

फसल जलाते किसान की वीडियो पर वरुण गांधी का ट्वीट, कहा- कृषि नीति पर दोबारा चिंतन करने की जरूरत

Rahul

आईपीएस अधिकारी भी दहेज के लिए करता था पत्नी को परेशान, रिपोर्ट दर्ज

bharatkhabar

कत्ल खानों को लेकर प्रशासन की सख्ती, स्लाटर हाउस पर पुलिस की छापेमारी

Rahul srivastava