शेयर बाजार में लिस्ट होने के 5 महीनें में ही बंधन बैंक का शेयर 87 फीसदी चढ़ा

शेयर बाजार में लिस्ट होने के 5 महीनें में ही बंधन बैंक का शेयर 87 फीसदी चढ़ा

नई दिल्ली। अगर दिल में कुछ करने का हौसला हो तो आपको दुनिया की कोई ताकत सफल होने से नहीं रोक सकती है। ऐसी ही एक कहानी चंद्रशेखर घोष की है। चंद्रशेखर घोष और उनकी कंपनी बंधन की यह यात्रा बेहद दिलचस्प है। आपको बता दें कि शेयर बाजार में लिस्ट होने के 5 महीने में ही बंधन बैंक का शेयर 87 फीसदी चढ़ चुका है। इसका आईपीओ 375 रुपये पर आया था। इस तेजी की वजह से बंधन बैंक का मार्केट कैपिटलाइजेशन यस बैंक के करीब पहुंच गया है, जिसकी लोन बुक उससे 6 गुना और कुल इनकम साढ़े चार गुना अधिक है।

 

बंधन बैंक प्राइस टु बुक वैल्यू रेशियो के आधार पर देश के 10 सबसे महंगे बैंकों में शामिल

बना देश का आठवां सबसे बड़ा बैंक- शेयर प्राइस में तेजी की वजह से बंधन बैंक प्राइस टु बुक वैल्यू रेशियो के आधार पर देश के 10 सबसे महंगे बैंकों में शामिल हो गया है। बीते शुक्रवार को बंधन बैंक का मार्केट कैप 83,787 करोड़ रुपये था। यह देश का 8वां सबसे बड़ा बैंक बन गया। यस बैंक 90,628 करोड़ रुपये के मार्केट कैप के साथ देश का सातवां सबसे बड़ा बैंक है। बंधन बैंक के शेयर में 8.9 की प्राइस टु बुक वैल्यू पर ट्रेडिंग हो रही है। प्राइवेट सेक्टर बैंकों की टॉप 10 लिस्ट के लिए यह आंकड़ा 2.5-5.1 है, जबकि सरकारी बैंकों के लिए यह 0.9-1.4 है. मार्केट कैप के लिहाज से देश के सबसे बड़े बैंक एचडीएफसी बैंक में 5.1 की प्राइस टु बुक वैल्यू पर ट्रेडिंग हो रही है।

वहीं पैसा लगाने की सलाह दे रहे हैं एक्सपर्ट- बंधन बैंक की इनकम वित्त वर्ष 2018 में 5,508 करोड़ रुपये थी और उसकी कुल लोन बुक 32,339 करोड़ रुपये की थी। इनमें से हर एक मानक पर वह सैंपल में शामिल सबसे छोटा बैंक है। 6 में से 5 एनालिस्टों ने बैंक को बाय रेटिंग दी हुई है, जबकि एक ने इसे होल्ड करने को कहा है। ब्रोकरेज फर्म जेएम फाइनेंशियल इंस्टीट्यूशनल सिक्योरिटीज ने एक हालिया रिपोर्ट में लिखा था। ‘हमें लगता है कि बंधन की प्रॉफिट लंबे समय तक तेज बनी रहेगी। रूरल मार्केट में इसके लिए काफी मौके हैं। इसका रिटर्न रेशियो शानदार है। इसलिए बैंक से लंबे समय तक निवेशकों को बढ़िया रिटर्न मिल सकता है।