October 3, 2022 10:00 am
featured लाइफस्टाइल

बदलते मौसम में चाय के साथ इन जड़ी बूटियों का सेवन किजिए, बीमारियों से मिलेगा निजात

Masala Chai बदलते मौसम में चाय के साथ इन जड़ी बूटियों का सेवन किजिए, बीमारियों से मिलेगा निजात

मानसून के मौसम में तापमान के अचानक बदलने से लोगों को बीमारियां लगनी शुरू हो जाती हैं। ऐसे में इन जड़ी बूटियों का सेवन करने से आप बिमारियों से बच सकते हैं।

चाय के साथ इन जड़ी बूटियों का सेवन जरूरी

मानसून का मौसम एक तरफ जहां गर्मी से राहत लेकर आता है, तो दूसरी तरफ बीमारी का भी कारण बनता है। तापमान में अचानक बदलाव जुकाम और बुखार के लिए ज्यादा संवेदनशील बनाता है। भारत में चाय बड़े पैमाने पर पी जाती है और मानसून में खासकर कुछ ज्यादा। बरसात का मौसम बीमारी फैलाने वाले रोगाणुओं और वायरस के लिए जाना जाता है। उसका हमारी सेहत पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। रिमझिम फुहारों के बीच चाय की चुस्की से मौसम का आनंद दोगुना हो जाता है। लेकिन सामान्य चाय के बजाए अगर मसाला जड़ी बूटी की चाय का इस्तेमाल किया जाए, तो फ्लू की रोकथाम और इलाज करने के काम आ सकती है।

अदरक की चाय देगी सर्दी जुकाम से राहत

अदरक, मसाला और हर किचन की प्रमुख सामग्री है। अदरक सदाबहार जड़ी बूटी विटामिन बी6 से भरपूर होती है और उसके कई एंटीऑक्सीडेंट्स के कारण औषधीय मूल्य हैं। अदरक की चाय पीने से आपको बदलते मौसम में कई हद तक बिमारियों से निजात मिल जाता है। सर्दी जुकाम जैसी समस्या से भी राहत मिलती है।

एक प्रकार का औषधीय पौधा है ब्राह्मी 

ब्राह्मी एक प्रकार का औषधीय पौधा है. ये भूमि पर फैलकर बड़ा होता है। शरीर में महत्वपूर्ण पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट्स का सुरक्षा कवच पैदा करने में मदद करती है जो संक्रमण और बीमारियों से लड़ने के काम आती है। ब्राह्मी तनाव के साथ-साथ चिंता को दूर करने में फायदेमंद है।

तुलसी विटामिन सी और जिंक में भरपूर

तुलसी आजकल हर घर में आपको मिल जाएगी। लेकिन जब चाय की बात आती है तो कई लोग तुलसी की चाय पीना ही पसंद करते हैं। ये विटामिन सी और जिंक में भरपूर होती है। उसके अलावा, ये वारयल रोधी, बैक्टीरिया रोधी और फंगल रोधी है और फाइटोकेमिकल्स, बाओफ्लवोनॉइड् और एंटीऑक्सीडेंट्स यौगिक का उसका मिश्रण सांस संबंधी बीमारियों जुकाम और खांसी से लेकर अस्थमा और ब्रोंकाइटिस से लड़ने में मदद करता है।

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए करें मुलेठी का इस्तेमाल

मुलेठी का इस्तेमाल पारंपरिक तौर पर सर्दी, खांसी, इम्यूनिटी बढ़ाने और लिवर को मजबूत करने के लिए किया जाता रहा है। मुलेठी एक दवाई के रूप में हमारे शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करती है। कोरोना में वैसे भी इम्यूनिटी बूस्टर का लोग ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसे में अगर आप मुलेठी की चाय पीते हैं तो आपको डबल फायदा होता है। ये कफ को ढीला करने में मदद करती है जो सीने में जकड़न, जुकाम और खांसी का प्रमुख कारण होता है।

 

Related posts

जमीन हथियाने के लिए बुजुर्ग को धारदार हथियार से काटा डाला, मौत

bharatkhabar

देश में लगातार जारी कोरोना की कहर, संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर हुई 78 हजार

Shubham Gupta

Coronavirus India Update: बीतें 24 घंटे में कोरोना के 19,968 नए केस, 673 मौतें, संक्रमण दर 1.68%

Neetu Rajbhar