lic अगर आप भी चाहती हैं हर महीने आमदनी तो LIC की ये पॉलिसी आपके लिए, पढ़ें

एलआईसी आधार शिला और आधार स्तम्भ नामक दो जीवन बीमा योजनाएं एलआईसी ने इस वर्ष शुरू की हैं. आधार स्तम्भ पुरुषों के लिए है और आधार शिला महिलायों के लिए है. इन योजनाओं में भाग लेने के लिए आपके पास आधार कार्ड होना जरूरी है.

क्या है आधार शिला योजना?
एलआईसी की आधार शिला (टेबल न. 944) एक नोन-लिंक्ड, नियमित प्रीमियम भुगतान के साथ लाभ देने वाली एंडॉमेंट पॉलिसी है. ये योजना एक संयोजन योजना है जो बचत और सुरक्षा दोनों प्रदान करती है. एलआईसी की आधार शिला योजना विशेष रूप से महिला नीति धारकों के लिए है जो यूआईडीएआई द्वारा जारी आधार कार्ड हैं. ये एक लायल्टी एडीशन आधारित योजना है. इस योजना के लिए किसी भी चिकित्सा परीक्षण की आवश्यकता नहीं है और मानक स्वस्थ जीवन उपलब्ध है. इस योजना के लिए किसी भी चिकित्सा परीक्षण की आवश्यकता नहीं है और मानक स्वस्थ जीवन उपलब्ध है.

एलआईसी की आधार शिला योजना परिपक्वता से पहले पॉलिसीधारक की दुर्भाग्यपूर्ण मौत और जीवित पॉलिसीधारक के लिए परिपक्वता का समय एकमुश्त राशि के मामले में परिवार को वित्तीय सहायता भी प्रदान करती है.

क्या हैं योजना के लाभ?
डेथ बेनिफिट : अगर पालिसी धारक की मृत्यु पालिसी प्रारंभ होने के पहले 5 वर्ष में होती है, तो उसे मृत्यु पर मिलनेवाले लाभ का भुगतान किया जाता है. अगर पॉलिसीधारक की मृत्यु, पॉलिसी शुरू होने के 5 वर्ष बाद लेकिन मैच्यूरिटी (परिपक्वता) से पहले होती है, तो उसके नॉमिनी को मृत्यु पर मिलनेवाला बीमित रकम के साथ लॉयल्टी एडिसन्स (अगर कुछ है तो) का भी भुगतान किया जाता है. यहां पर मृत्यु पर मिलनेवाले बीमित रकम का अर्थ वार्षिक प्रीमियम का 10 गुणा या मूल बीमित रकम का 110 फीसदी है. मृत्यु लाभ… मृत्यु तक भरे हुए कुल प्रीमियम के 105 फीसदी से कम नहीं होना चाहिए.

मैच्यूरिटी बेनिफिट : अगर पॉलिसीधारक पूरे पॉलिसी अवधि तक जीवित रहती है और उसने अपने सारे बकाया प्रीमियम का भुगतान किया है, तो उसे मैच्यूरिटी (परिपक्ववता) पर मिलनेवाले बीमित रकम के साथ लॉयल्टी एडिसन्स (अगर कुछ है तो) का भी भुगतान किया जाता है. यहां पर मैचुरिटी पर मिलनेवाला बीमित रकम का अर्थ मूल बीमित रकम होता है.

लॉयल्टी एडिसन्स : अगर पॉलिसीधारक पॉलिसी में 5 वर्ष तक बने रहते हैं और पॉलिसीधारक ने सारे प्रीमियम्स का भुगतान किया है, तो वह इस योजना के तहत पॉलिसी अवधि के दौरान मृत्यु होने पर या मैच्यूरिटी पर लॉयल्टी एडिसन पाने के योग्य होते हैं. उन्हें मिलनेवाले लॉयल्टी एडिसन के दर की घोषणा एलआईसी द्वारा की जाती है. अगर उनकी पॉलिसी पेडअप पॉलिसी में बदल चुकी है, तो उनको उतने ही पॉलिसी अवधि का लॉयल्टी एडिसन मिलेगा, जितनी अवधि तक वे पॉलिसी में बने हुए थे

विशेषताएं: एलआईसी आधार शिला
-यह योजना ओटो कवर सुविधा प्रदान करती है.
-यह योजना केवल महिलाओं के लिए उपलब्ध है.
-यह कम प्रीमियम योजना है.
-यह एक एंडॉवमेंट पॉलिसी है जिसमें राशि अवधि के अंत में परिपक्वता पर एकमुश्त राशि के रूप में दी जाती है.
-इस योजना में 5 साल के बाद मृत्यु होने पर लायल्टी वृद्धि का अतिरिक्त भुगतान किया जाएगा, जबकि सामान्य बीमा कवरेज मे सम अशोर्ड बीमा राशि के बराबर होगा.
-इस योजना की परिपक्वता पर पॉलिसीधारक को मूल बीमा राशि + लायल्टी वृद्धि प्राप्त होती है.
-इस योजना के तहत गंभीर बीमारी लाभ उपलब्ध नहीं हैं.
-इस योजना के तहत लोन सुविधा उपलब्ध है लेकिन केवल तीन वर्षों के पूरा होने के बाद ही.
-एलआईसी के दुर्घटनाग्रस्त राइडर और स्थायी विकलांगता राइडर जैसे लाभ उपलब्ध हैं.
-रिवाइवल ऑफ लॅप्स्ड पॉलिसी के तहत, अनपेड प्रीमियम दो वर्षों के भीतर उपलब्ध है.
-भुगतान प्रीमियम 80 सी के तहत आयकर से छूट दी जाती है.
-परिपक्वता राशि 10 (10 डी) के तहत कर मुक्त है.

कैसे ले सकती हैं यह पॉलिसी?
इस योजना में निवेश के लिए न्यूनतम आयु सीमा 8 वर्ष और अधिकतम 55 वर्ष है. जबकि मेच्योरिटी के समय पॉलिसीहोल्डर की उम्र 70 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए. पॉलिसी का टर्म 10 से 20 साल का होता है. यह पॉलिसी एलआईसी ने 1 फरवरी 2020 को लॉन्च की थी. यह पॉलिसी सेविंग के साथ लाइफ कवर भी उपलब्ध कराती है. मैच्योर होने पर पॉलिसीहोल्डर को एकमुश्त राशि मिल जाती है, जबकि पॉलिसी होल्डर की मृत्यु पर परिवार को सहायता राशि मिलती है.

सिब्बल के बाद गुलाव नबी ने कांग्रेस पर कसा तंज, कहा- फाइव स्टार होटलों में बैठकर चुनाव नहीं लड़ सकते

Previous article

ड्रग्स केस में फंसी भारती सिंह और उनके पति की जमानत याचिका पर नहीं होगी सुनवाई, कारागार में बितानी होगी रात

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured