September 25, 2021 12:46 am
Breaking News featured देश यूपी

मकान मालिक ने दो बहनों को बनाया हवस का शिकार, न्याय के लिए दर-दर की खा रही ठोकरें

058a288c 79d2 4526 a978 a9c5947ddb88 मकान मालिक ने दो बहनों को बनाया हवस का शिकार, न्याय के लिए दर-दर की खा रही ठोकरें

पीलीभीत। आए दिन महिलाओं के साथ दुराचार के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। लगातर महिलाओं के साथ बढ़ रहे अत्याचार की घटनाओं में इजाफा देखने को मिल रहा है। यह सब देखकर लगता है मानों आज का इंसान जानवर बन चुका हो। जो अपनी हवस की भूख मिटाने के लिए मासूमों को अपना शिकार बनाता है। ऐसा ही एक मानवता को शर्मसार कर देने वाला मामला पीलीभीत से आया है, जहां मकान मालिक ने दो सगी बहनों के साथ दुष्कर्म जैसी घिनोनी वारदात को अंजाम दिया। 65 बर्षीय आरोपी एक साल से बड़ी बहने के साथ रेप की घटना को अंजाम दे रहा था। बाद में छोटी बहन को भी अपनी हवस का शिकार बना लिया। जब घटना की जानकारी पीड़िता के परिजनों को हुई तो उन्होंने एसपी के यहां इंसाफ की गुहार लगाई। जिसके चलते एसपी के बाद शिकायत पहुंचने पर आरोपी सतनाम सिंह उर्फ कारमेट के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया।

पीड़िता ने मामले की शिकायत तहसील दिवस में की-

बता दें कि यह मामला हजारा थाना क्षेत्र के भुर्जगुनिया गांव की है, जहां दो नाबालिग लड़कियां अपने परिवार के साथ आरोपी सतनाम सिंह के घर रहकर मजदूरी कर अपना पालन पोषण करती थीं। जिनका आरोप है कि 65 वर्षीय आरोपी मकान मालिक एक साल से उसकी बड़ी बहन के साथ दुष्कर्म करता रहा, जिससे उसकी तबीयत खराब हो गई। उसके बाद छोटी बहन के साथ भी आरोपी ने रेप किया। जिसकी जानकारी होने पर पीड़ित परिवार ने थाने पर मामले की शिकायत की। वहीं पीड़ित परिजनों का आरोप है कि दो महीने से लगातार न्याय के लिए थाने के चक्कर काटने के बाद पीड़िता ने मामले की शिकायत तहसील दिवस में की थी।

थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई के आदेश-

वहीं पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश ने बताया कि थाना हजारा के अन्तर्गत एक प्रार्थना पत्र के आधार पर 376 का अभियोग पंजीकृत किया गया है। इस प्रकरण की जांच क्षेत्राधिकारी पूरनपुर द्वारा की जा रही थी। जांच के दौरान यह पता चला कि बच्चियों द्वारा समाधान दिवस में प्रार्थना पत्र दिया गया था। फिलहाल मामले में केस दर्ज कर जांच की जा रही है और लापरवाह थानाध्यक्ष के खिलाफ विभागीय जांच करवा करवाकर उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी।

Related posts

बीजेपी में क्यों नहीं जाना चाहते सचिन पायलट, खत्म हुआ पायलट का राजनैतिक सफर?

Rozy Ali

किसान आंदोलन के चलते कई ट्रेनें रद्द, देखें लिस्ट

Hemant Jaiman

एक तरफ बरेलवी का फतवा तो दूसरी तरफ लहराएगा ओम रेजीडेन्सी का130 फिट ऊंचा तिरंगा

Rani Naqvi