लालू यादव ने ट्वीट कर कसा नीतीश कुमार पर तंज, कहा- का हो नीतीश? कुछ शर्म बचल बा कि नाहीं

लालू यादव ने ट्वीट कर कसा नीतीश कुमार पर तंज, कहा- का हो नीतीश? कुछ शर्म बचल बा कि नाहीं

नई दिल्ली। बिहार के शेल्टर होम मामले में नीतीश सरकार को फटकार लगाने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने सीबीआई को भी लताड़ लगाई है। इस मामले की दोबारा सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आप सुप्रीम कोर्ट के आदेश से खेल रहे हैं। आपको पता नहीं कि आपने क्या किया है। इस मामले में नाराज़ कोर्ट ने सीबीआई से कहा कि आपने 31 अक्टूबर को कहा था कि एके शर्मा जांच टीम के सीनियर मोस्ट अफसर होंगे। तो फिर जांच की निगरानी कर रहे एके शर्मा का ट्रांसफर क्यों कर दिया गया?।

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने एके शर्मा को हटाए जाने से नाराजगी जताते हुए उस वक्त के अंतरिम निदेशक एम नागेश्वर राव को तलब किया है। सुप्रीम कोर्ट की इस तल्ख टिप्पणी के बाद नीतीश कुमार पर लालू यादव ने तंज कसा है। आरजेडी प्रमुख ने तंज कसते हुए ट्विट किया कि ‘का हो नीतीश? कुछ शर्म बचल बा कि नाहीं।

वहीं नेता प्रतिपक्ष और पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने चुटकी लेते हुए लिखा कि सीएम नीतीश कुमार में शर्म ही नहीं बची है। आरजेडी नेता ने ‘शर्म होगी तो करेंगे ना? शर्म तो इन्होंने जिस दिन जनादेश की डकैती की थी, उसी दिन उतार फेंकी थी। जिसमें शर्म नहीं बची हो उसे क्या कहते है?’ आपकी जानकारी के लिए बिहार के मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस को लेकर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर से नीतीश सरकार को फटकार लगाई है।

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि आप बच्चों के साथ इस तरह का बर्ताव करते हैं। आप इस तरीके की चीजों की इजाजत नहीं दे सकते। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को बिहार की सीबीआई अदालत से दिल्ली के साकेत कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने फटकार लगाते हुए कहा कि दिल्ली से पटना दो घंटे का रास्ता है। हम चीफ सेक्रेट्री को भी यहां खड़ा कर सकते हैं।