जानिए सुंदरकांड के पाठ से क्यों मिलती है ताकत

जानिए सुंदरकांड के पाठ से क्यों मिलती है ताकत

नई दिल्ली। आज मंगलवार का दिन है। इस दिन को हनुमान जी की पूजा के लिए खास माना गया है। हनुमान जी को संकटमोचन कहा गया है जिसका अर्त होता है संकट यानी सभी कष्टों को हरने वाले। राम भक्त हनुमार जी को जब भी श्रद्ध या भक्ति से याद किया जाता है तो वो अपने भक्तों की मदद जरुर करते हैं।

 

हनुमान जी को प्रसन्न करने का सबसे आसान उपाय है हनुमान चालीसा का पाठ या सुंदरकांड का पाठ। अगर सच्ची श्रद्धा से हनुमान जी को याद किया जाए तो वो सारे संकट हर लेते हैं। सुंदरकांड की सबसे खास बात ये है कि इसके पाठ से ना सिर्फ हनुमानजी का आशीर्वाद मिलता है बल्कि भगवान श्रीराम का भी आशीर्वाद प्राप्त होता है।

सुंदरकांड का पाठ वैसे तो किसी भी दिन करना अच्छा होता है, लेकिन विशेष रुप से शनिवार तथा मंगलवार को सुंदरकांड का पाठ करने से सभी दूख से छुटकारा मिलता है। सुंदरकांड के पाठ से घर की नकारात्मता दूर होती है।घर में अगर किसी भूत-प्रेत का साया है या माहौल खराब है तो इस पाठ से सारे भूत-प्रेत दूर हो जाते हैं।

सुंदरकांड के पाठ करने से पहले व्यक्ति को स्नान कर साफ कपड़े पहनने चाहिए। इसके बाद हनुमान जी की तस्वीर के सामने बैठकर उनका ध्यान करते हुए और सीया-राम को याद करते हुए सुंदरकांड का पाठ करना चाहिए।बजरंग बली को फूल-माला और प्रसाद चढ़ाकर ध्यान करना चाहिए। हनुमान जी सारे संकट दूर कर देंगे।