featured बिज़नेस

जाने कब अर्थव्यवस्था के मामले में जर्मनी और जापान को भी पीछे छोड़ देगा भारत

narendra modi pm india जाने कब अर्थव्यवस्था के मामले में जर्मनी और जापान को भी पीछे छोड़ देगा भारत

नई दिल्ली। भारत अगले कुछ वर्षों में अर्थव्यवस्था के मामले में जर्मनी और जापान को भी पीछे छोड़ देगा और 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन जाएगा. ब्रिटेन के सेंटर फॉर इकोनॉमिक्स ऐंड बिजनेस रिसर्च की एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है. रिपोर्ट के अनुसार, साल 2026 तक जर्मनी को पीछे छोड़ भारत दुनिया की चौथी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा और इसके बाद 2034 तक जापान को पीछे छोड़कर दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा. रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत वर्ष 2026 तक ही 5 ट्रिलियन डॉलर (5 लाख करोड़ डॉलर) की अर्थव्यवस्था बन जाएगा. यानी इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत अगले सात साल में 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन जाएगा, मोदी सरकार द्वारा तय लक्ष्य से दो साल बाद.

वर्ल्ड इकोनॉमिक लीग टेबल 2020 शीर्षक वाली इस रिपोर्ट में कहा गया है, ‘भारत ने निर्णायक बढ़त हासिल करते हुए 2019 में ही फ्रांस और यूके को पीछे छोड़कर दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी इकोनॉमी का दर्जा हासिल कर लिया है. अब उम्मीद है कि यह 2026 में जर्मनी को पीछे छोड़कर चौथी और 2034 में जापान को भी पीछे छोड़कर तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा.

CEBR की एक रिपोर्ट के अनुसार, अगले 15 साल में तीसरे स्थान पर बने रहने के लिए भारत, जापान और जर्मनी में मुकाबला चलता रहेगा. गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी सरकार ने साल 2024 तक भारत को 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बनाने का लक्ष्य रखा है. इसकी चर्चा करते हुए रिपोर्ट में कहा गया है, ‘भारत साल 2026 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी बन जाएगा, मौजूदा सरकार के लक्ष्य से 2 साल बाद हालांकि, भारतीय अर्थव्यवस्था में अभी जो संकट चल रहा है, उसे लेकर इस लक्ष्य के पूरा होने पर संदेह बना हुआ है. हाल में भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर सी. रंगराजन ने कहा था, ‘मौजूदा जो ग्रोथ रेट है, उसे देखते हुए 2024-25 तक जीडीपी के 5 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने का सवाल ही नहीं है.’

सरकार द्वारा जीडीपी का बेस ईयर बदलने और इसके बाद आंकड़ों में संशोधन के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था ने इस साल फ्रांस और यूके को पीछे छोड़ दिया है. लेकिन रिपोर्ट में कहा गया है, ‘इस साल अर्थव्यवस्था में सुस्त बढ़त की वजह से सरकार पर ज्यादा बदलावकारी आर्थ‍िक सुधारों के लिए दबाव बढ़ना होगा.

Related posts

चुनाव आयोग ने महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की तारीखों का किया ऐलान, जाने कब कहां होगा मतदान

Rani Naqvi

वाराणसी में मिला विश्‍व का पहला अनोखा कोरोना केस, विशेषज्ञ भी हुए हैरान

Shailendra Singh

दिल्ली एम्स में अपनी मांगों को लेकर UAHP ने खोला केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा

mahesh yadav