Capture 10 किसान आंदोलन: पुलिस ने बलपूर्वक गन्ना संस्थान को कराया खाली!

लखनऊ। 11 हजार करोड़ रूपए के गन्ने का बकाया भुगतान करने, गन्ने का मूल्यू 450 रूपए प्रति क्विंटल करने सहित कई मांगों को लेकर लखनऊ के गन्ना संस्थान में जुटे किसानों को पुलिस ने बलपूर्वक खदेड़ दिया है। बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों को पुलिस ने शुक्रवार की देर रात गन्ना संस्थान के परिसर से बाहर कर दिया। जिसके बाद से किसानों में रोष और बढ़ गया है। किसानों ने एक बार फिर से बड़े आंदोलन की चेतावनी दी है।

उत्तर प्रदेश किसान मजदूर मोर्चा के बैनर तले विभिन्न किसान संगठनों ने 15 जुलाई से गन्ना आयुक्त कार्यालय का घेराव करने का निर्णय लिया था। जिसमें बड़ी संख्या में किसानों का हुजूम गन्ना संस्थान पहुंचा था। इस बीच खबर आ रही थी कि इस आंदोलन में और बड़ी संख्या में किसान आ रहे हैं। इसको देखते हुए पुलिस ने शुक्रवार की देर रात किसानों को गन्ना संस्थान के बाहर कर दिया। किसानों का आरोप है कि पुलिस ने उनके साथ बदसलूकी भी की है। साथ ही लाठी भी भांजी है। जिसमें कई किसान चोटिल हो गए हैं।

Capture1 1 किसान आंदोलन: पुलिस ने बलपूर्वक गन्ना संस्थान को कराया खाली!

आंदोलन की अगुवाई कर रहे राष्ट्र किसान मजदूर संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीएम सिंह ने बताया कि पुलिस ने तानाशाही रवैया अपनाया है। किसाना शांतिपूर्वक अपनी मांगों को लेकर धरना दे रहे थे। लेकिन, पुलिस ने इस आंदोलन को रौंदने के लिए जिस तरीके का प्रयोग किया है वह निंदनीय है।

वीएम सिंह ने कहा कि पुलिस के इस रवैये से हम डरे नहीं हैं। यह आंदोलन अब और बड़ा होगा। उन्होंने कहा कि हम अपनी मांगों के लिए नहीं बल्कि हक के लिए लड़ रहे हैं। सरकार के दावों के अनुसार साल 2011 से अब तक किसानों के गन्ने का बकाया भुगतान ब्याज के साथ होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम किसान अपनी खून पसीने की मेहनत को यूं ही जाया नहीं जाने देंगे।

साथ ही उन्होंने कहा कि गन्ने की दर को 450 रूपए प्रति क्विंटल किया जाना चाहिए। लगातार महंगाई बढ़ रही है। गन्ना किसान बेहाल हैं। लेकिन सरकार को इन सब चीजों से फर्क नहीं पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल डीजल की कीमतों के कारण लगातार खेती की लागत बढ़ रही है। कीटनाशक दवाएं भी दिन पर दिन महंगी होती जा रहीं हैं। इन सभी चीजों का सरकार को ध्यान रखना होगा।

Struggle: लॉकडाउन में फैक्ट्री मजदूर की नौकरी गई, तो खुद की खोल दी फैक्ट्री, पढ़ें पूरी खबर

Previous article

अल्मोड़ा: कांग्रेस के प्रदेश महासचिव आनंद रावत ने छात्रों को सिखाए शारीरिक व्यायाम के गुण

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.