October 25, 2021 12:52 pm
featured देश

28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं कन्हैया कुमार और जिग्नेश

navbharat times 21 28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं कन्हैया कुमार और जिग्नेश

जेएनयू संघ के पूर्व अध्यक्ष और सीपीआई नेता कन्हैया कुमार और गुजरात के निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवानी 28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक यह जानकारी दी है। बता दें कि हाल ही में कन्हैया कुमार ने इस बारे में राहुल गांधी से मुलाकात की थी। जिसके बाद से ही राजनीतिक गलियारे में अटकलें तेज हो गई थीं। सूत्रों के मुताबिक पार्टी के पास कन्हैया कुमार के लिए प्लान है, जिसपर अमल किया जाएगा। वहीं कई राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि कन्हैया सिर्फ बिहार तक ही सीमित नहीं रहेंगे उन्हें पार्टी राष्ट्रीय स्तर पर भी मैदान में उतार सकती है। बताया जा रहा है कि राहुल गांधी से पहले कन्हैया कुमार और जिग्नेश मेवानी ने माहिर चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से भी मुलाकात की थी।

बता दें कि प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी को राय दी थी कि पुराने नेताओं का असर अब कांग्रेस पार्टी में समाप्त हो गया है इसलिए अब युवाओं को मौका देना चाहिए। उन्होंने कहा कि इसकी भरपाई कन्हैया और जिग्नेश की एंट्री से की जा सकती है। कन्हैया कुमार बीते डेढ़ सालों से राजनीति में कम ही सक्रिय नजर आ रहे हैं। प्रशांत किशोर का कहना है कि कन्हैया का भाषण देने का अंदाज वोटरों को लुभा सकता है।

kanhaiya kumar and jignesh mevani will join congress 730X365 28 सितंबर को कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं कन्हैया कुमार और जिग्नेश

हालांकि इन अटकलों पर बिहार कांग्रेस का कोई भी नेता कुछ भी खुलकर बोलने से परहेज कर रहा है। बताया जा रहा है कि कई वरिष्ठ नेता कन्हैया की संभावित एंट्री से अपनी वैल्यू कम होने की आशंका जता रहे हैं। बता दें कि इससे पहले कन्हैया कुमार ने जनता दल यूनाइटेड (जदयू) नेता अशोक चौधरी से भी मुलाकात की थी। उनकी इस मुलाकात की भी सियासी गलियारों में काफी चर्चा हुई थी। लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला।

वहीं हैदराबाद में इसको लेकर सीपीआई की अहम बैठक हुई थी। इसमें कन्हैया कुमार द्वारा पटना में की गई मारपीट की घटना को लेकर निंदा प्रस्ताव पास किया गया था। बैठक में पार्टी के 110 सदस्य मौजूद थे जिसमें तीन को छोड़कर बाकी सभी ने कन्हैया के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पास करने का समर्थन किया था। इस घटनाक्रम के बाद कन्हैया की जदयू नेता से मुलाकात को अहम माना जा रहा था। बता दें कि कन्हैया बेगूसराय के रहने वाले हैं। उन्होंने 2019 में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के खिलाफ बेगूसराय से लोकसभा चुनाव लड़ा था।

Related posts

राहुल गांधी की आज होगी ‘ताजपोशी’, जलेबी और लड्डू बनाने में जुटे हलवाई

Vijay Shrer

दो से तीन महीने में कन्हैया कुमार के खिलाफ मिलेगा पूरा सबूत, चलेगा राष्ट्रदोह का मुकदमा

bharatkhabar

जानिए कौन है मौलाना फजलुर रहमान जिनसे डरी पाकिस्तान सरकार

Rani Naqvi