visshakha Success story: UPSC के लिए दांव पर लगाई नौकरी, तीसरे प्रयास में सफल हुईं विशाखा

Success Story: हर साल देशभर में लाखों लोग यूपीएससी में अपनी किस्मत आजमाते हैं। लेकिन सफलता कुछ ही लोगों की मिलती है।

कई लोगों को पहले ही प्रयास में सफलता मिल जाती है तो कई लोगों को दूसरे या तीसरे प्रयास में मिलती है। कुछ ऐसे भी लोग हैं जो अपने कैरियर भी दांव पर लगा देते हैं।

ऐसे ही कुछ किया विशाखा ने, दिल्ली की रहने वाली विशाखा ने पहले तो इंजीनियरिंग की और अच्छी नौकारी भी मिली। लेकिन मन नहीं लगा तो वो नौकरी छोड़कर यूपीएससी की तैयारी करने लगी। विशाखा सफल भी हुईं, उन्होंने यूपीएससी 2019 की परीक्षा उत्तीर्ण करते हुए देश भर में 6वीं रैंक प्राप्त की है। अब विशाखा का आईएएस अफसर बनने का सपना पूरा हो गया है। लेकिन विशाखा को यह सफलता तीसरे प्रयास में मिली है।

इंटरमीडिएट के बाद की इंजीनियरिंग

दिल्ली में जन्मी विशाखा ने इंटरमीडिएट के बाद इंजीनियरिंग में दाखिला ले लिया। इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल करने के बाद विशाखा को एक कंपनी में अच्छी सैलरी वाली जॉब मिल गई। करीब 2 साल तक जॉब करने के बाद उनका मन बदल गया। फिर उन्होंने यूपीएससी में आने का फैसला किया। उनके परिवार वाले भी चाहते थे कि विशाखा यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बनें और उन्होंने अपनी नौकरी छोड़कर यह कठिन फैसला ले ही लिया।

ऐसा रहा यूपीएससी का सफर?

विशाखा को यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए लंबा वक्त लगा। शुरुआती दो प्रयासों में यूपीएससी की प्री परीक्षा भी पास नहीं कर पाईं। ऐसा किसी भी कैंडिडेट के लिए निराशाजनक होता है, लेकिन विशाखा ने हार नहीं मानी। विशाखा ने खुद को मोटिवेट और सकारात्मक रख तैयारी जारी रखी। उन्होंने ठान लिया कि किसी भी कीमत पर आईएएस अफसर बनना है। कड़ी मेहनत के बाद विशाखा को तीसरे प्रयास में सफलता मिली, उन्होंने देशभर में 6वीं रैंक लाकर अपनी अलग पहचान बनाई।

नैनीताल: सीएम तीरथ सिंह रावत की भक्ति, गर्जिया देवी मंदिर में की पूजा-अर्चान

Previous article

हेमंत तिवारी ने राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति चुनाव में मारी बाजी, शिव शरण सिंह बने सचिव

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured