Breaking News

सिंचाई विभाग के जेई ने किया 70 से ज्यादा बच्चों को यौन शोषण, क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर

लखनऊ। देश में आए दिन कहीं न कहीं से बच्चों के साथ यौन शोषण जैसे घिनौने अपराध की घटना सुनने को मिल ही जाती है। यह सब देखकर लगता है कि मानों जैसे आज का मानव शैतान बन चुका हो। जो अपनी हवस बुझाने के लिए मासूमों को अपना शिकार बनाता है। ऐसा ही एक मामला यूपी के बांदा से आया है, जहां सिंचाई विभाग के जूनियर इंजीनियर रामभवन द्वारा बच्चों के यौन शोषण के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। रामभवन ने लगभग 70 से ज्यादा बच्चों का यौन शोषण किया है। उसकी हवस इतना बढ़ गई थी कि उसने एक नहीं बल्कि 70 बच्चों के साथ ही इस घिनोनी वारदात को अंजाम दिया। जेई का यह घिनोना खेल 10 सालों से चल रहा था। जिन बच्चों का यौन शोषण किया गया उन्हें एचआईवी होने का शक है। जिसके चलते दिल्ली के एम्स अस्पताल में रामभवन के टेस्ट किए जा रहे हैं।

4 से लेकर 22 साल तक के युवकों को बनाया अपना शिकार-

बता दें कि आर कोई जुर्म करता है तो उसकी सजा उसे जरूर मिलती है। वह अपने आप को कानून से ज्यादा दिनों तक नहीं बचा सकता है। सीबीआई जांच में पता चला है कि रामभवन ने चार साल के बच्चों से लेकर 22 साल तक के युवकों के साथ यौन संबंध बनाए। रामभवन ने अपने रिश्तेदारों के बच्चों को भी नहीं बख्शा। रामभवन ने उनके साथ भी यौन संबंध बनाए थे। आठ डॉक्टरों की एक टीम रामभवन का टेस्ट कर रही है जिससे बच्चों को बीमारी से बचाया जा सके। डॉक्टरों की टीम रामभवन की मानसिक, एचआईवी और पीडोफाइल टेस्ट कर रही है। इसके साथ ही बीती 29 दिसंबर को सीबीआई ने उसकी पत्नी को भी गिरफ्तार किया था। रामभवन की पत्नी पत्नी दुर्गावती पर पॉक्सो अधिनियम की धारा-17 (बाल यौन शोषण अपराध में मदद करना और छिपाना) और 120बी (षड्यंत्र में शामिल होना) के तहत आरोप है।

10 साल से दे रहा था इस घिनोनी वारदात को अंजाम-

इसके साथ ही बता दें कि लोग घिनोना काम करने के लिए सारी हदें पार कर देते हैं। इस घिनोनी वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपियों ने इसे व्यापार बना लिया। इस वारदात की घटना को कैमरे में कैद करके उसकी फोटो काॅपी बाजार में बिक्री के लिए इस्तेमाल करते हैं। जिसके चलते  सीबीआई ने कथित तौर पर कई बच्चों का यौन शोषण करने और उनके अश्लील वीडियो व फोटो पॉर्न साइटों को बेचने के मामले 16 नवंबर को जेई रामभवन को गिरफ्तार किया था। उस पर करीब 10 साल से इस कुकर्म को करने का गंभीर आरोप है। सीबीआई की टीम ने चित्रकूट में जूनियर इंजीनियर और उसके साथियों के आवास की तलाशी ली थी। तलाशी के दौरान करीब आठ लाख रुपये नकद, 12 मोबाइल फोन, लैपटॉप, वेब-कैमरा और अन्य इलेक्ट्रॉनिक स्टोरेज डिवाइस मिले थे।

Recent Posts

जीवन दांव पर लगाकर कोरोना मरीजों का उपचार करने वाले डा.अजय यादव सम्मानित

 लखनऊ। कोरोना काल में तमाम कोरोना योद्धाओं ने लोगों, समाज व कोरोना पीड़ितों की मदद… Read More

2 hours ago

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए आयुर्वेद का सहारा लेना चाहिए : डॉ. विक्रम सिंह

लखनऊ। कोरोना वायरस एक वायरल संक्रमण है, जो सीधे हमारी इम्युनिटी को प्रभावित करता है,… Read More

2 hours ago

बहुराष्ट्रीय कंपनियों का मुकाबला करेंगे युवा व्यापारी

लखनऊ। अखिल भारतीय उद्योग व्यापार मंडल की युवा इकाई उत्तर प्रदेश युवा उद्योग व्यापार मंडल… Read More

2 hours ago

स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा, पंचर साइकिल से रेस नहीं जीत सकते अखिलेश

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने सपा की साईकिल यात्रा… Read More

2 hours ago

बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस-वे के निर्माण कार्यों की समीक्षा बैठक आयोजित

लखनऊ। यूपीडा के मुख्य कार्यपालक अधिकारी अवनीश कुमार अवस्थी ने बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे के निर्माण कार्यो… Read More

2 hours ago

गरीबों के लिए कार्य कर रहे नरेन्द्र मोदी : स्वतंत्रदेव सिंह

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गुरूवार को कहा कि… Read More

2 hours ago