64ec453c 280e 49cd b5ff 77a1f502625d सिंचाई विभाग के जेई ने किया 70 से ज्यादा बच्चों को यौन शोषण, क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर
फाइल फोटो

लखनऊ। देश में आए दिन कहीं न कहीं से बच्चों के साथ यौन शोषण जैसे घिनौने अपराध की घटना सुनने को मिल ही जाती है। यह सब देखकर लगता है कि मानों जैसे आज का मानव शैतान बन चुका हो। जो अपनी हवस बुझाने के लिए मासूमों को अपना शिकार बनाता है। ऐसा ही एक मामला यूपी के बांदा से आया है, जहां सिंचाई विभाग के जूनियर इंजीनियर रामभवन द्वारा बच्चों के यौन शोषण के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। रामभवन ने लगभग 70 से ज्यादा बच्चों का यौन शोषण किया है। उसकी हवस इतना बढ़ गई थी कि उसने एक नहीं बल्कि 70 बच्चों के साथ ही इस घिनोनी वारदात को अंजाम दिया। जेई का यह घिनोना खेल 10 सालों से चल रहा था। जिन बच्चों का यौन शोषण किया गया उन्हें एचआईवी होने का शक है। जिसके चलते दिल्ली के एम्स अस्पताल में रामभवन के टेस्ट किए जा रहे हैं।

4 से लेकर 22 साल तक के युवकों को बनाया अपना शिकार-

बता दें कि आर कोई जुर्म करता है तो उसकी सजा उसे जरूर मिलती है। वह अपने आप को कानून से ज्यादा दिनों तक नहीं बचा सकता है। सीबीआई जांच में पता चला है कि रामभवन ने चार साल के बच्चों से लेकर 22 साल तक के युवकों के साथ यौन संबंध बनाए। रामभवन ने अपने रिश्तेदारों के बच्चों को भी नहीं बख्शा। रामभवन ने उनके साथ भी यौन संबंध बनाए थे। आठ डॉक्टरों की एक टीम रामभवन का टेस्ट कर रही है जिससे बच्चों को बीमारी से बचाया जा सके। डॉक्टरों की टीम रामभवन की मानसिक, एचआईवी और पीडोफाइल टेस्ट कर रही है। इसके साथ ही बीती 29 दिसंबर को सीबीआई ने उसकी पत्नी को भी गिरफ्तार किया था। रामभवन की पत्नी पत्नी दुर्गावती पर पॉक्सो अधिनियम की धारा-17 (बाल यौन शोषण अपराध में मदद करना और छिपाना) और 120बी (षड्यंत्र में शामिल होना) के तहत आरोप है।

10 साल से दे रहा था इस घिनोनी वारदात को अंजाम-

इसके साथ ही बता दें कि लोग घिनोना काम करने के लिए सारी हदें पार कर देते हैं। इस घिनोनी वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपियों ने इसे व्यापार बना लिया। इस वारदात की घटना को कैमरे में कैद करके उसकी फोटो काॅपी बाजार में बिक्री के लिए इस्तेमाल करते हैं। जिसके चलते  सीबीआई ने कथित तौर पर कई बच्चों का यौन शोषण करने और उनके अश्लील वीडियो व फोटो पॉर्न साइटों को बेचने के मामले 16 नवंबर को जेई रामभवन को गिरफ्तार किया था। उस पर करीब 10 साल से इस कुकर्म को करने का गंभीर आरोप है। सीबीआई की टीम ने चित्रकूट में जूनियर इंजीनियर और उसके साथियों के आवास की तलाशी ली थी। तलाशी के दौरान करीब आठ लाख रुपये नकद, 12 मोबाइल फोन, लैपटॉप, वेब-कैमरा और अन्य इलेक्ट्रॉनिक स्टोरेज डिवाइस मिले थे।

राजधानी दिल्ली के बाद महाराष्ट्र में भी बर्ड फ्लू की पुष्टि, कानपुर चिड़ियाघर में पक्षियों को मारने के आदेश

Previous article

बंगाल विधानसभा चुनाव: तेज हो रहे पार्टियों के हमले, “असली रैली-नकली रैली” को लेकर जुबानी जंग

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.