एएमयू छात्रसंघ ने दिया धरना-इंटरनेट सेवा पर लगी रोक

एएमयू छात्रसंघ ने दिया धरना-इंटरनेट सेवा पर लगी रोक

नई दिल्ली। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्ना जंग का मामल लगातार गरमाता ही जा रहा है। बता दे कि एएमयू छात्रसंघ अपनी मांग को लेकर बाब-ए-सैयद गेट पर धरना देकर बैठे हुए हैं। छात्रसंघ के समर्थन में यूनिवर्सिटी के छात्र 4 से 5 हजार की संख्या में अभी भी धरने पर बैठे हुए हैं। बता दे कि इसी सिलसिले में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए डीएम ने अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी सहित पूरे शहर में इंटरनेट बंद करने के आदेश दे दिए हैं। इंटरनेट सेवायें 4 मई को 2 बजे से 5 मई रात 12 बजे तक बंद रहेंगी।

छात्रों की मांगे

छात्रों की मांग है कि हिन्दू संगठन और स्थानीय सांसद सतीश गौतम के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा लिखा जाए। साथ ही जिन पुलिस अधिकारीयों के कहने पर छात्रों पर लाठीचार्ज हुआ उन पर भी मुकदमा लिख कार्यवाई होनी चाहिए।  हालांकि प्रशासन ने अभी छात्रों की कोई भी मांग नहीं मानी है। जिसकी वजह से अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्र सड़क पर धरना दे रहे हैं।

बता दे कि डीएम चन्द्र भूषण सिंह ने मामले में मजिस्ट्रियल जांच के निर्देश देते हुए एडीएम फायनेंस बच्चू को जांच अधिकारी नामित किया है। डीएम ने कहा कि एएमयू में पाकिस्तान के जनक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर हटाने को लेकर एएमयू में चल रहा विवाद 02 मई को हिंसक हो गया।

बेकाबू छात्रों पर लाठीचार्ज कर आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े। इस विवाद में हुए पथराव और लाठीचार्ज में एसपी, एसडीएम समेत 13 पुलिसकर्मी और संघ अध्यक्ष समेत 15 छात्र घायल हो गए। डीएम ने कहा कि उक्त घटना की पारदर्शिता के लिए मजिस्ट्रियल जांच जरूरी है। उन्होंने जांच अधिकारी एडीएम फायनेंस बच्चू सिंह को निर्देशित किया कि वह जांच कर तीन प्रतियों में 15 दिन में जांच रिपोर्ट सौंपे।

हिंसक प्रदर्शन

बता दे कि हिन्दू संगठनों ने जिन्ना की तस्वीर हटाने के लिए यूनिवर्सिटी के गेट पर प्रदर्शन किया। इसका एएमयू के सैकड़ों छात्रों ने विरोध किया। आक्रोशित छात्रों को जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की, तो वे धक्का-मुक्की करने लगे। इसके बाद हालात संभालने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज और फायरिंग करनी पड़ी। हालात के मद्देनजर पुलिस फोर्स तैनात की गई है।

बता दें कि एएमयू के यूनियन हॉल में जिन्ना की तस्वीर लगाए जाने पर अलीगढ़ के भाजपा सांसद ने कुलपति को खत लिखकर जवाब मांगा था। उधर, योगी कैबिनेट में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने जिन्ना को महापुरुष बताया था। हालांकि देर रात एएमयू स्टूडेंट्स का धरना ख़त्म हो गया लेकिन यूनिवर्सिटी में जगह जगह फोर्स तैनात रही। यही नहीं सुबह पुलिस के आला अधिकारीयों ने यूनिवर्सिटी का दौरा भी किया।

गेट पर फूंका जिन्ना का पुतला

बता दे कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद हिंदू जागरण मंच और हिंदू युवा वाहिनी की ओर से यूनिवर्सिटी के गेट पर जिन्ना की तस्वीर हटाने को लेकर प्रदर्शन किया। संगठनों ने जिन्ना का पुतला भी फूंका। एएमयू के छात्रों ने इस प्रदर्शन का विरोध किया। दोनों गुटों में मारपीट भी हुई। पुलिस ने यहां पर मामला शांत करा दिया।