November 28, 2021 5:23 am
featured दुनिया

उत्तर कोरिया ने आधुनिक हाइपरसोनिक मिसाइल का किया परीक्षण, जाने क्या है इसके खतरे

kim jong un उत्तर कोरिया ने आधुनिक हाइपरसोनिक मिसाइल का किया परीक्षण, जाने क्या है इसके खतरे

उत्तर कोरिया ने हाल ही में विकसित हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया है। इस परीक्षण के बाद उत्तर कोरिया ने बुधवार को कहा कि, उसने मंगलवार को एक नई विकसित हाइपरसोनिक मिसाइल का पहला परीक्षण-प्रक्षेपण किया है, जिसका आत्मरक्षा क्षमताओं को बढ़ाने में रणनीतिक महत्व है। योनहाप समाचार एजेंसी ने कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी के हवाले से कहा है कि, “उत्तर की रक्षा विज्ञान अकादमी ने जगंग प्रांत के रयोंग्रिम काउंटी के टोयांग-री से वासोंग-8 मिसाइल का परीक्षण किया और इंजन की स्थिरता के साथ-साथ मिसाइल ईंधन एम्प्यूल का पता लगाया जिसे पहली बार पेश किया गया है।”

विशेषज्ञों ने कहा कि, यह तरल ईंधन का उपयोग करने वाली एक बैलिस्टिक मिसाइल लगती है जैसा कि इसके नाम, वासोंग से पता चलता है। उत्तर कोरिया को संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों के तहत बैलिस्टिक तकनीक से प्रतिबंधित कर दिया गया है। साथ ही केसीएनए ने कहा है कि, “इस हथियार प्रणाली का विकास देश की अत्याधुनिक रक्षा विज्ञान और प्रौद्योगिकी की स्वतंत्र शक्ति को बढ़ाने और हर तरह से आत्मरक्षा के लिए राष्ट्र की क्षमताओं को बढ़ाने में महत्वपूर्ण रणनीतिक महत्व का है।” इसके अलावा परीक्षण-लॉन्च ने ‘इंजन की स्थिरता के साथ-साथ पहली बार पेश किए गए मिसाइल ईंधन एम्प्यूल की भी पुष्टि की।’ केसीएनए ने कहा कि, परीक्षण के परिणामों से पता चला है कि सभी तकनीकी विशिष्टताओं ने इसकी डिजाइन आवश्यकताओं को पूरा किया है।

केसीएनए ने कहा कि, सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी के पोलित ब्यूरो के प्रेसिडियम के सदस्य पाक जोंग-चोन ने प्रक्षेपण का मार्गदर्शन किया। नेता किम जोंग उन फायरिंग में शामिल नहीं हुए।
साथ ही कहा कि, पाक ने “सभी मिसाइल ईंधन प्रणालियों को एम्प्यूल में बदलने के सैन्य महत्व पर ध्यान दिया।” इसके अलावा हथियार का परीक्षण किया गया। जिसमें उन्होंने कहा कि, प्योंगयांग कोरियाई युद्ध को समाप्त करने की घोषणा कर सकता है जैसा कि सुझाव दिया गया दक्षिण और यहां तक कि एक शिखर सम्मेलन की संभावना पर भी चर्चा करें।इसके अलावा मंगलवार को, दक्षिण कोरिया की सेना ने कहा कि, उत्तर कोरिया ने दिन की शुरुआत में पूर्व की ओर एक छोटी दूरी की मिसाइल प्रतीत होती है। जापानी सरकार ने कहा कि, यह एक बैलिस्टिक मिसाइल लगती है।

Related posts

मुख्य न्यायाधीश बोले, कुछ समूह व लोगों में दिख रही आक्रामकता

bharatkhabar

व‌र्ल्ड हेल्थ डे-महिलाएं ऐसे रख सकती हैं अपने आप को स्वस्थ

mohini kushwaha

मंत्री गंगवार 28 विश्वकर्मा राष्ट्रीय पुरस्कार व 128 राष्ट्रीय सुरक्षा पुरस्कार वितरित करेंगे

mahesh yadav