featured दुनिया

यूक्रेन पर हमले का खतरा!, पूर्वी यूरोप में BIDEN ने मजबूत किए NATO के हाथ,  भेजे हजारों सैनिक

Army Recruitment Rally 2021

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मंगलवार को यूक्रेन विवाद पर एक अहम फैसला किया। बाइडेन ने व्हाइट हाउस में पेंटागन के अफसरों के साथ एक इमरजेंसी मीटिंग के बाद 2 हजार अमेरिकी सैनिकों के जर्मनी और पोलैंड में तैनात करने का आदेश दिया।

यह भी पढ़े

गलवान पर बड़ा खुलासा, खुल गई CHINA की पोल, ऑस्ट्रेलियाई अखबार की RESEARCH REPORT में हुआ खुलासा

सैनिक बहुत जल्द इन देशों के लिए होंगे रवाना

रिपोर्ट्स के मुताबिक, अमेरिकी सैनिक बहुत जल्द इन देशों के लिए रवाना हो जाएंगे। बाइडेन का फैसला इसलिए अहम हो जाता है, क्योंकि अमेरिका और रूस के बीच यूक्रेन मसले पर बातचीत अटक गई है। दूसरी तरफ, रूस यूक्रेन को तीन तरफ से घेर रहे है। अमेरिका और नाटो को आशंका है कि रूसी सैनिक बेलारूस की सीमा से यूक्रेन पर हमला बोल सकते हैं। यहां करीब 13 हजार रूसी सैनिक तैनात हैं। इस बीच ब्रिटेन और कनाडा ने भी अपने और सैनिक यूक्रेन भेजे जाने को मंजूरी दे दी है।

यूक्रेन बॉर्डर पर रूस का इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट जारी

रूस भी लगातार यूक्रेन बॉर्डर के पास मिलिट्री डेवलपमेंट कर रहा है। बुधवार को जारी की गई सैटेलाइट इमेज से इस बात का खुलासा हुआ है। इसमें क्रीमिया से लगी यूक्रेन बॉर्डर के पास रूसी मिलिट्री के नया इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट नजर आ रहा है। डिफेंस एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सैटेलाइट इमेज से पता चलता है कि रूस ने यूक्रेन की उत्तर, पूर्व और दक्षिण की सीमा पर घेराबंदी की है।

पूर्वी यूरोप पर फोकस

अमेरिका को आशंका है कि यूक्रेन और रूस के बीच अगर जंग छिड़ती है तो इसकी आंच ईस्टर्न यूरोप तक पहुंचेगी। यही वजह है कि बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन इससे निपटने की तैयारी में जुट गई है। ताजा फैसला जर्मनी और पोलैंड में अमेरिकी सैनिकों की तादाद बढ़ाने का है।

यूक्रेन की धरती पर कदम नहीं रखेंगे सैनिक

खास बात यह है कि जर्मनी में पहले ही एक हजार अमेरिकी सैनिक और फाइटर जेट्स मौजूद हैं। अब पोलैंड और रोमानिया में भी सैनिकों की तैनाती की जा रही है। अमेरिका ने साफ कर दिया है कि उसके सैनिक फिलहाल, यूक्रेन की धरती पर कदम नहीं रखेंगे। हालांकि, इसकी संभावना से इनकार भी नहीं किया है। पेंटागन के प्रवक्ता ने कहा- अमेरिकी राष्ट्रपति रूस को साफ बता देना चाहते हैं कि अमेरिका किसी भी सूरत में यूक्रेन को अकेला नहीं छोड़ेगा।

रोमानिया और पोलैंड क्यों अहम

यहां से अमेरिकी सैनिक बहुत कम वक्त में यूक्रेन की सरहद तक पहुंच सकते हैं। दूसरी बात यह है कि अमेरिकी एयरफोर्स के कुछ बेस भी इन देशों में मौजूद हैं। लिहाजा, जंग की सूरत में अमेरिका को रणनीति बनाने और सैनिकों की तैनाती में ज्यादा वक्त नहीं लगेगा। बुधवार को किए गए फैसले के एक दिन पहले यानी मंगलवार को पेंटागन ने साफ कर दिया था कि रूस को इस बात की इजाजत नहीं दी सकती कि वो अपने पड़ोसी देशों और नाटो के सं‌भावित सहयोगियों पर दबाव बनाए। अमेरिका ने यूक्रेन की सेना को काफी हथियार और कुछ हार्डवेयर भी सप्लाई किए हैं। अमेरिका के 8 हजार 500 सैनिकों को हाईअलर्ट पर रहने को कहा गया है।

पेंटागन की तैयारी

फिलहाल, करीब 4 हजार अमेरिकी सैनिक पोलैंड और 900 रोमानिया में तैनात हैं। इसके अलावा 100 अमेरिकी सैनिक लिथुआनिया में भी मौजूद हैं। अमेरिकी एयरफोर्स और नेवी को भी अलर्ट पर रहने के आदेश दे दिए गए हैं। दूसरी तरफ, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने मंगलवार को कहा कि अमेरिका रूस को यूक्रेन के साथ युद्ध शुरू करने के लिए उसका रहा है। वो रूस की तरक्की पर लगाम लगाना चाहता है। इसके लिए आर्थिक प्रतिबंध लगाने का बहाना खोज रहा है और इस लक्ष्य को पाने के लिए यूक्रेन का इस्तेमाल कर रहा है।

 

पुतिन ने कहा है अगर यूक्रेन को नाटो में शामिल किया गया तो यह न सिर्फ रूस बल्कि पूरी दुनिया के लिए खतरनाक साबित होगा। यूक्रेन नाटो की सैन्य तकनीक और हथियार का इस्तेमाल क्रीमिया को वापस छीनने में कर सकता है। जिससे रूस और नाटो ब्लॉक के बीच युद्ध हो सकता है।

Related posts

लोकसभा में उठा उत्तराखंड में चीनी घुसपैठ का मुद्दा

bharatkhabar

यूपी के बाद अब दिल्ली की बारी, सात अवैध बूचड़खाने सील

Rahul srivastava

सीतापुरः तलवार लेकर क्लीनिक में घुसा युवक, एक ही वार में डॉक्टर का सिर किया कलम

Shailendra Singh