matuknath3 भारत का पहला 'प्रेम विद्यालय', लवगुरू मटुकनाथ पढ़ाएंगे 'प्रेम का पाठ'

भागलपुर: बिहार में प्रेम विद्यालय खोले जाने की कवायद की जा रही है। लवगुरू मटुकनाथ भागलपुर में प्रेम विद्यालय खोलने जा रहे हैं। इस विद्यालय में छात्रों को प्रेम की शिक्षा दी जाएगी। गौरतलब है कि लवगुरू मटुकनाथ की कहानी किसी जमाने में पटना में बेहद चर्चित थी।

पटना विश्वविद्यालय में प्रोफेसर थे मटुकनाथ

बता दें कि लवगुरू के नाम से सुप्रसिध्द मटुकनाथ लवगुरू के नाम से चर्चित हैं और वह पटना विश्वविद्यालय में हिंदी प्रोफेसर के रूप में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। अब लवगुरू रिटायर्ड होने के बाद अपने गांव  जयरामपुर में रहा करते हैं।

matuknath2 भारत का पहला 'प्रेम विद्यालय', लवगुरू मटुकनाथ पढ़ाएंगे 'प्रेम का पाठ'

जयरामपुर में खोलेंगे लव स्कूल

बताया जा रहा है कि लवगुरू मटुकनाथ भागलपुर जिले के बिहपुर प्रखंड स्थित जयरामपुर में ओशो इंटरनेशनल स्कूल खोलने की तैयारी कर रहे हैं। इस विद्यालय में छात्रों को प्रेम की शिक्षा लवगुरू देंगे।

अप्रैल से शुरू होगा लव स्कूल

पटना पहुंचे मटुकनाथ ने स्कूल के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि प्रेम विद्यालय की शुरूआत इसी साल अप्रैल महीने से शुरू कर दी जाएगी। साथ ही इस विद्यालय में भौतिक, आध्यात्मिक, आत्मिक विकास पर शिक्षा दी जाएगी।

matuknath 1 भारत का पहला 'प्रेम विद्यालय', लवगुरू मटुकनाथ पढ़ाएंगे 'प्रेम का पाठ'

चर्चित थी मटुकनाथ की कहानी

गौरतलब है कि पटना में मटुकनाथ औऱ उनकी आधी उम्र की शिष्या जूली की प्रेम कहानी बेहद चर्चित थी। साल 2006 में लवगुरू मटुकनाथ पटना विश्वविद्यालय में हिंदी के प्रोफेसर थे और जूली उनकी छात्रा थी। उसी समय दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया। उस समय जूली ने परिवार व समाज की परवाह किए बगैर मटुकनाथ से शादी रचाई थी। इतना ही नहीं पटना विश्वविद्यालय में उनकी प्रेम कहानी और शादी को लेकर उस वक्त हंगामा भी खूब हुआ। यहां तक की छात्रों ने मटुकनाथ के मुंह मे कालिख तक पोत डाली थी। इन सबके बीच विश्वविद्यालय ने लवगुरू को निलंबित तक कर दिया था। बहरहाल अब मटुकनाथ जूली के साथ नहीं रहते हैं लेकिन वो अपनी प्रेम कहानी को अब भी अधूरा नहीं मानते।

 

इस साल इसरो के पहले अंतरिक्ष मिशन का काउंटडाउन शुरू, कल होगा लॉन्च

Previous article

अमेरिका ने की नयी वीज़ा प्रतिबंध पॉलिसी की घोषणा, ‘खशोगी’ हत्याकाण्ड के चलते जो बाइडेन प्रशासन हुआ सख्त

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured