Breaking News featured देश वायरल साइन्स-टेक्नोलॉजी

व्हाट्सएप को चुनौती देने आ गया भारत का अपना मैसेजिंग एप, जानिये आप कब कर पायेंगे इस्तेमाल

sandes व्हाट्सएप को चुनौती देने आ गया भारत का अपना मैसेजिंग एप, जानिये आप कब कर पायेंगे इस्तेमाल

भारत तेज़ी तरक्की की ओर आगे बढ़ रहा है और भारत की ये तरक्की कई देशों की आंख में लगातार चुभ रही है, वो लगातार सरकारी अफसरों की जासूसी करते हैं, जिसकी पहले भी ख़बरें आ चुकी हैं। इसीलिए सरकारी अफसरों के डेटा को सेंधमारी से बचाने के लिए भारत ने अपना मैसेजिंग एप बनाया है, जिससे कोई डेटा चोरी करने की सोच तक नहीं सकेगा। सबसे पहले इस एप का इस्तेमाल सरकारी अफसर करेंगे औऱ बाद में आम जनता इसे इस्तेमाल कर सकेगी। माना जा रहा है कि संदेश नाम का ये सरकारी एप भारत में व्हाट्स एप का विकल्प बन जाए।

हिंदुस्तान के इस नए मैसेजिंग एप संदेश की खासियत है कि बड़े से बड़े हैकर और एजेंसियां इसमें सेंधमारी नहीं कर पायेंगी। क्योंकि इस ऐप से ही अब सरकारी अफसर एक दूसरे को सरकारी और महत्वपूर्ण सूचनाएं भेजेंगे। माना जा रहा है, कि भारत अपना खुद का व्हाट्स एप ले आया है. इसका डेटा देश में ही सुरक्षित रखा जाएगा।

दरअसल इसकी जरूरत इसलिए पड़ी क्योंकि व्हाट्सएप जैसे एप विदेशी निजी कंपनियां चलाती हैं। इनके सर्वर विदेशों में स्थित हैं और इन कंपनियों में कई देशों के नागरिक भी काम करते हैं। यानी इन एप का डेटा चोरी होने की आशंका हमेशा बनी रहती है। इसीलिए सरकार ने अहम सरकारी जानकारियों को लीक होने से रोकने के लिए इस एप को बनाया है।फिलहाल इसका इस्तेमाल सिर्फ सरकारी अफसर ही कर रहे हैं इसलिए इसे कम्यूनिकेशन का ऑफीशियल माध्यम भी माना जा सकता है। यानी अब सरकारी अफसरों को आदेश हासिल करने के लिए अधिकारी से बात करना या ई मेल का इंतज़ार करने की ज़रूरत नहीं होगी। संदेश एप पर आया मैसेज उनके लिए आधिकारिक हुक्म माना जायेगा।

इस एप से सरकारी काम काज में तेजी तो आएगी ही, साथ ही इससे ये भी पता लग सकेगा कि कौन सा सरकारी अफसर अपने काम को लेकर कितना गंभीर है। यानी अब इसरो के वैज्ञानिकों से लेकर आला पुलिस अफसर तक इसी एप का इस्तेमाल करने वाले हैं।

बता दें कि दूसरे देशों खासकर कि पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई हनीट्रैप में फंसाकर भी व्हाट्सएप के जरिये भारत से जुड़ी खुफिया जानकारी हासिल करने में लगी रहती है. लेकिन अब संदेश एप से ऐसा कर पाना नामुमकिन हो जायेगा। इस एप को सरकार की वेबसाइट GIMS.GOV.IN पर जाकर डाउनलोड किया जा सकता है।

Related posts

Delhi Deputy CM अब कोरोना के साथ डेंगू की चपेट में

Trinath Mishra

दिल्ली-NCR में बदला मौसम का मिजाज, भारी बारिश के आसार

mohini kushwaha

भाजपा जल्द कर सकती है MLC उम्मीदवारों के नामों का ऐलान, सीएम आवास पर हुई बैठक

Shailendra Singh