featured दुनिया देश

भारत ने UN में उठाया ड्रोन हमले का मुद्दा, कहा-साजिश पर ध्यान देने की जरूरत

rajnath singh भारत ने UN में उठाया ड्रोन हमले का मुद्दा, कहा-साजिश पर ध्यान देने की जरूरत

जम्मू-कश्मीर में एयरफोर्स बेस पर ड्रोन हमले की साजिश का मामला संयुक्त राष्ट्र सभा में उठाया गया। भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कहा कि आतंकवादी गतिविधियों के लिए हथियारबंद ड्रोन के इस्तेमाल की संभावना पर गंभीरता से ध्यान देने की जरूरत है। साथ ही इस चुनौती से मिलकर निपटने का आह्वान किया गया।

इंटरनेट-सोशल मीडिया का दुरुपयोग

गृह मंत्रालय के विशेष सचिव वीएसके कौमुदी ने कहा कि अब आतंकवाद के प्रचार और कैडर की भर्ती के लिए इंटरनेट-सोशल मीडिया का दुरुपयोग हो रहा है। आतंकवाद के वित्तपोषण के लिए नई भुगतान विधियों और क्राउडफंडिंग का इस्तेमाल हो रहा है। और आतंकी अब ड्रोन तकनीकी का भी इस्तेमाल करने लगे हैं।

ड्रोन का हो रहा दुरुपयोग

विशेष सचिव ने कहा कि कम लागत वाला विकल्प होने के कारण आतंकी ड्रोन का तेजी से इस्तेमाल कर रहे हैं। और ये आसानी से उपलब्ध है। ड्रोन के जरिए आतंकी हथियार या विस्फोटक एक जगह से दूसरे जगह तक आसानी से भेज रहे हैं। यह दुनिया भर में सुरक्षा एजेंसियों के लिए खतरा और चुनौती बन सकता है।

पीएम मोदी से मिलेंगे राजनाथ सिंह

वहीं इन सबके बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। बता दें कि आज पीएम मोदी की हाई लेवल मीटिंग भी होने वाली है। जिसमें उम्मीद है कि राजनाथ सिंह ये मुद्दा रख सकते हैं। इस मीटिंग में राजनाथ सिंह सेना की तैयारियों के बारे में भी जानकारी दे सकते हैं।

लगातार दो दिन ड्रोन दिखने से हड़कंप

बता दें जम्मू में लगातार दो दिन ड्रोन दिखने से हड़कंप मच गया है। पहले जम्मू एयरफोर्स स्टेशन पर ड्रोन से विस्फोट किया गया। और फिर 24 घंटे के अंदर दो ड्रोन दिखाई दिए। बहरहाल जवान अलर्ट थे तो ड्रोन दिखते ही उसपर 25 से 30 राउंड फायरिंग की गई जिसके बाद ड्रोन गायब हो गए।

हालांकि अभी ये कहना मुश्किल है कि एयरफोर्स स्टेशन पर जो ड्रोन अटैक हुआ, उसमें ड्रोन सीमा पार से आए थे। क्योंकि बॉर्डर से एयर डिस्टेंस करीब 14-15 किलोमीटर है। और इतनी दूर तक दो किलोग्राम वजन के विस्फोटक लेकर ड्रोन का उड़ान भरना और आसानी से पकड़ में ना आना, ये नामुमकिन है।

Related posts

कर्नाटक विधानसभा चुनाव का ऐलान, 12 मई को होगा मतदान, 15 को आएंगे नतीजे

lucknow bureua

एबीवीपी के प्रान्त अभ्यास वर्ग में पहुँची केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी

Shailendra Singh

सरकार ने ब्लॉक किये 81 लाख आधार कार्ड, ऐसे लें अपने आधार का जानकारी

Rani Naqvi