September 21, 2021 11:04 pm
featured उत्तराखंड

बड़कोट (उत्तरकाशी) में नगर पालिका द्वारा शहर में विचरण करने वाले आवारा पशुओं को चारा, भूसा आदि की व्यवस्था की गई

Bharat Khabar | नगर पालिका | Special News in Hindi

देहरादून। जिलाधिकारी डाॅ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने अवगत कराया है कि कोरोना वायरस (कोविड-19) संक्रमित 03 प्रशिक्षु आई.एफ.एस के चिन्हित होने के फलस्वरूप वन अनुसंधान संस्थान परिसर को आवागमन हेतु निषिद करते हुए क्षेत्र को 14 दिन के लिए लाॅक डाउन किया था तथा केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार एवं आयुर्विज्ञान संस्थान परिषद द्वारा कोरोना संक्रमण क्षेत्र को पूर्ण रूप से संक्रमण मुक्त किये जाने हेतु कुल 28 दिवस Containment Plan, COVID-19, Ministry of Health and Family Welfare ) पूर्ण किये जाने की एडवाईजरी के अनुपालन में वन अनुसंधान संस्थान परिसर की लाॅक डाउन को 14+14 कुल 28 दिन करने के आदेश दिये गये थे। मुख्य चिकित्साधिकारी द्वारा उक्त संस्थान की क्वारेंन्टाइन के 28 दिन की समय अवधि पूर्ण होने के दृष्टिगत वन अनुसंधान परिसर को क्वारेन्टाइन से मुक्त करने हेतु किये गये अनुरोध पर जिलाधिकारी द्वारा उक्त संस्थान को लाॅक डाउन/क्वारेन्टाइन से मुक्त करने के आदेश दिये गये हैं। जिलाधिकारी ने स्पष्ट किया कि इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय वन अकादमी में स्थापित किये गये क्वारेन्टाइन व आइसोलेशन केन्द्र अग्रिम आदेशों तक क्रियाशील रहेगा तथा उक्त परिसर/भवन में अग्रिम आदेशों तक सभी आवागमन निषिद्ध रहेगा तथा जनपद में प्रभावी लाॅक डाउन इस क्षेत्र में भी यथावत लागू रहेगा।

चमौली 

दरअसल कोरोना संकट में लाॅकडाउन के चलते जिले से पलायन को आतुर इन मजदूरों को जिला प्रशासन ने रिलीफ सेंटर में रूकने की व्यवस्था की। लाॅकडाउन में काम बंद होेने से इन मजदूरों को दो वक्त की रोटी की चिन्ता सताने लगी थी। ऐसे में इन मजदूरों ने यहाॅ से पलायन का मन बनाया था। चमोली जिला प्रशासन को इसकी भनक लगी तो जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने इन मजदूरों के लिए रिलीफ सेंटर में ठहरने की व्यवस्था की गई। रिलीफ सेंटर भेजे जाने पर पहले तो ये सभी मजदूर परेशान हो रहे थे। उनको चिन्ता थी की जब काम ही नही तो भोजन कहाॅ से मिलेगा। परन्तु जिलाधिकारी की पहल पर राजकीय पाॅलीटेक्निक गौचर में इन मजदूरों को नाश्ते से लेकर दोनो टाईम के भोजन के अलावा टूथपेस्ट, साबुन, तौलिया जैसे जरूरी सामान भी दिया गया।

दून बड़कोट (उत्तरकाशी) में नगर पालिका द्वारा शहर में विचरण करने वाले आवारा पशुओं को चारा, भूसा आदि की व्यवस्था की गई 

रिलीफ सेंटर के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने मजदूरों के मनोरंजन के लिए टीवी भी लगवाया और ज्ञानबर्धक पुस्तकें दिलाई। कर्णप्रयाग में तैनात तहसीलदार सोहन सिंह रांगड तो कुछ दिन पहले अपने बेटे का जन्म दिन इन मजदूरों के साथ मना चुके है। अपने बेटे के जन्म पर उन्होंने मजदूरों के लिए खास पकवान खिलाए और फल भी बांटे। रिलीफ सेंटर में मजदूर शारीरिक और मानसिक तौर पर फिट रहे इसके लिए भी जिला प्रशासन ने खास पहल की है। प्रशासन इन मजदूरों को नियमित योग और व्यायाम सिखाने के अलावा इनकी काउसिलिंग भी करवा रहा है। अब ये सभी 34 मजदूर एक परिवार की तरह रिलीफ सेंटर में रहने लगे है और जिला प्रशासन से मिल रही हर मदद से बेहद खुश है। नियमित व्यायाम, योग और ज्ञानबर्धक पुस्तकें पढकर इन मजदूरों के चेहरों पर तेज साफ दिख रहा है।

जिलाधिकारी ने अवगत कराया है कि आज विभिन्न स्वंयसेवी संस्थाओं ने जिला प्रशासन को सहयोग प्रदान करते हुए भोजन पैकेट उपलब्ध कराये, जिसमें मुख्यतः राधास्वामी सत्संग व्यास, गीता भवन, लोकायुक्त कार्यालय देहरादून, अग्रवाल चेरिटेबल ट्रस्ट, गुरूद्वारा श्री गुरू अंगद देव जी कांवली रोड, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर समिति झण्डाबाजार, दून यूनिवर्सिटी, एल्थम बेकरी, केतन आनन्द, रोशनी जन सेवा संस्थान डी.एल रोड चैक देहरादून, राजकुमार जिंदल नेहरू कालोनी, सत्य सांई सेवा संस्थान, ई-नेट सोल्यूशन ट्रांस्पोर्ट नगर देहरादून, गोयल स्वीटशाॅप, शिल्पा प्रोडक्शन द्वारा भोजन के पैकेट उपलब्ध कराये गये। जनपद सदर क्षेत्रान्तर्गत कुल 5145 व्यक्तियों को भोजन पैकेट वितरित किये गये, जिनमें 1 वरिष्ठ नागरिक, 40 विद्यार्थी, थाना पटेलनगर में 800, दीपनगर में 1000, चकशाह नगर में 1100, धारा चैकी में 200, चैकी इन्दिरा नगर में 300, चैकी पटेलनगर में 400, कारगी काली मन्दिर में 135, बंजारावाला में 100, नत्थनपुर में 70, नगर निगम में 200, ट्रांस्पोर्टनगर में 200, चन्द्रबनी में 115, चैयला में 100, गौतमकुण्ड में 84, थाना रायपुर में 200, ब्रहा्रपुरी में 40, जी.एम.एस रोड में 30, नवादा में 30 व्यक्तियों को भोजन के पैकेट वितरित किया गये।

दून 3 बड़कोट (उत्तरकाशी) में नगर पालिका द्वारा शहर में विचरण करने वाले आवारा पशुओं को चारा, भूसा आदि की व्यवस्था की गई

देहरादून

जिला प्रशासन देहरादून को ऑनलाईन ‘‘दून हैप्पी मील्स’’ के द्वारा सहयोग प्रदान करते हुए श्रीमती शिखा रावत अजबपुरकलां द्वारा 4 अन्नपूर्णा किट, उपलब्ध कराये गये। आज जिला प्रशासन को विभिन्न संस्थाओं द्वारा चिकित्सा में उपयोग की जाने वाली सामग्री उपलब्ध कराई गयी जिनमें धाद संस्था देहरादून द्वारा 5000 मास्क, मुस्लिम सेवा संगठन द्वारा 99 पी.पी.ई. किट तथा ए.वी.के एजुकेशन प्रा0 लि0 द्वारा 40 फेस सील्ड उपलब्ध कराये गये।

जिला प्रशासन की टीम द्वारा विभिन्न सामाजिक संस्थाओं एवं व्यक्तियों के सहयोग से जनपद के विभिन्न स्थानों पर 3066 अन्नपूर्णा राशन किट वितरित की गयी, थाना नेहरू कालोनी में 600, तहसील सदर मंें 226, थाना राजपुर में 300, थाना डालनवाला में 250, थाना प्रेमनगर में 150, तहसील मसूरी में 100, तहसील कालसी में 50 थाना रायपुर में 200, कोतवाली देहरादून में 350, थाना क्लेमेन्टाउन में 200, थाना कैन्ट में 300, थान बसंत विहार में 250, तहसील विकासनरग में 90 अन्नपूर्णा किट वितरित किये गये। लाॅक डाउन अवधि के दौरान विभिन्न सामाजिक संगठनों एवं संस्थाओं द्वारा भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम द्वारा आज भोजन बनाने वाली संस्था राधा स्वामी सत्संग व्यास हरिद्वार बाईपास रोड, श्री सत्य सांई मंदिर ट्रस्ट सुभाषनगर, ई-नेट सोल्यूशन ट्रांस्पोर्टनगर, राजकुमार जिंदल नेहरू कालोनी देहरादून के किचन का निरीक्षण जिला प्रशासन की टीम द्वारा किया गया।

दून 2 बड़कोट (उत्तरकाशी) में नगर पालिका द्वारा शहर में विचरण करने वाले आवारा पशुओं को चारा, भूसा आदि की व्यवस्था की गई

जिलाधिकारी के निर्देशों के अनुपालन में मुख्य पशु चिकित्साधिकारी द्वारा स्वयं सेवी संस्थाओं के सहयोग से जनपद अन्तर्गत विकासखण्ड चकराता, विकासनगर, सहसपुर, रायपुर व डोईवाला में कुल 1648 निराश्रित पशुओं जिसमें 1070 श्वान, 546 गौवंश एवं 32 अन्य पशुओं को चारा व पशु आहार उपलब्ध कराया गया। कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण के दृष्टिगत जिला आपदा परिचालन केन्द्र देहरादून में जन सहायता हेतु स्थापित कन्ट्रोलरूम में कुल 28 काॅल प्राप्त हुई हैं, जिसमें, ई-पास हेतु 5, भोजन हेतु 1, राशन हेतु 18 एवं मेडिकल सहायता हेतु 1 व अन्य हेतु 3 काॅल प्राप्त हुई।

जनपद के देहरादून सदर, में 10 सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों के माध्यम से प्रति पैकेट रू0 50 की दर से 500 पैकेट विक्रय किया गया। इसी क्रम में जनपद के विभिन्न चयनित स्थानों पर प्रशासन द्वारा अधिकृत 15 मोबाईल वैन के माध्यम से सस्ते दरों पर 62.45 क्विंटल सब्जियों का विक्रय किया गया। दुग्ध विकास विभाग द्वारा भगत सिहं कालोनी, कारगी ग्रान्ट एवं लक्खीबाग में कुल 880 ली0 दूध तथा जिला पूर्ति विभाग द्वारा भगत सिहं कोलोनी में 47, लक्खीबाग में 40, एवं कारगीग्रान्ट में 17 गैस सिलेण्डर वितरित किये गये। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के अन्तर्गत भगत सिंह कालोनी में 525 तथा लक्खीबाग क्षेत्र में 347 एवं करगीग्रान्ट में 102 उपभोक्ताओं को खाद्यान उपलब्ध कराया गया। इसी प्रकार भगत सिंह कोलोनी में 03 मोबाईल वैन के माध्यम से फल-सब्जी का वितरण किया गया। प्रेमनगर में अनियमितता पाये जाने पर 5 व्यापारियों/दुकानों के चालान किये गये।

बागेश्वर

कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए प्रदेश में किये गयें लॉक डाउन से जनपद में असंगठित क्षेत्र में कार्य करने वाले ऐसे श्रमिक जो लॉक डाउन के कारण बेरोजगार हो गयें हैं तथा जिनके पास कोर्इ पंजीकरण/परिचय पत्र व राशन कार्ड उपलब्ध नहीं हैं, ऐसे मजदूरों को  किसी प्रकार से खाद्यान्न की कमी न हों इसकी व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए जिलाधिकारी रंजना राजगुरु के निर्देश पर खाद्य आपूर्ति विभाग द्वारा आज जनपद में ऐसे असंगठित मजदूरों को उनके निवास स्थान पर राशन के पैकेट वितरित कियें गयें, जिसमें आज कपकोट क्षेत्र के अंतर्गत 200, गरूड़ 50, बागेश्वर में 100 वितरित कियें गयें। प्रत्येक राशन की किट में  आटा 05 किलो0, चावल 05 किलो0, मिक्स दाल 01 किलो0, चीनी 01 किलो0, तेल 01 लीटर, सब्जी, मसाला, चायपत्ती, मोमबत्ती, माचिस तथा नमक जैसी सामग्री हैं। जिसमें आज तहसील गरूड़ क्षेत्रान्तर्गत 200 व तहसील बागेश्वर के क्षेत्रान्तर्गत 50 पैंकेट खाद्य सामग्री के वितरित कियें गयें।

Related posts

राहुल गांधी का प्रधानमंत्री मोदी पर वार, कहा उन्हें सब कुछ आता है

bharatkhabar

स्वामी ने कसा महबूबा पर तंज, आप पाक की महबूबा हो सकती हैं, हमारी नहीं

lucknow bureua

नेताजी पर फिल्म बनाने वाला था राम रहीम

Pradeep sharma