icecube break in antartica mahasagar अंटार्कटिका महासागर में एक बढ़ा हिमखंड टूटकर सागर में गिरा, ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे ने पहले ही जता दी थी घटना की आशंका

विश्व – वहीं एक खबर अंटार्कटिका महासागर से आ रही है। बताया जा रहा है कि अंटार्कटिका महासागर में एक आइस शेल्स से एक विशाल हिमखंड टूट कर सागर में गिर गया है। हिमखंड का आकार मुंबई शहर के आकार से दोगुने से भी ज्यादा बताया जा रहा है। इस हिमखंड का आकार 1,270 वर्ग किमी है जबकि मुंबई का आकार 603 वर्ग किलोमीटर ही है। बता दें कि पिछले साल नवंबर 2020 में आइस शेल्फ पर एक दरार बनी थी।

क्या कहा बीएएस निदेशक डेम जेन फ्रांसिस ने –
ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे (बीएएस) के निदेशक डेम जेन फ्रांसिस ने कहा कि हमारी टीमें बरसों से ब्रंट आइस शेल्फ से एक हिमखंड के अलग होने को लेकर पूरी तरह तैयार थी। ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे द्वारा इसकी एक तस्वीर भी जारी की गई है। वैज्ञानिकों के अनुसार यह घटना बर्न्ट आइस शेल्फ क्षेत्र में हुई। इस विघटन को ‘काल्विंग’ कहा जाता है जिसमें जमे हुए क्षेत्र से विशाल हिमखंड अलग होते है। साथ ही बता दे कि नॉर्थ रिफ्ट दरार साल 2020 से ब्रंट आइस शेल्फ में सक्रिय रूप से सबसे अहम हिस्सा था। ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वे (बीएएस) के वैज्ञानिकों ने इसके अलग होने की उम्मीद पहले ही जता दी थी। गौरतलब है कि धरती पर सबसे ज्यादा बर्फ अंटार्कटिका महासागर पर है एक सर्वे के अनुसार कहा जाता है कि अगर अंटार्कटिका की बर्फ टूट कर समुद्र में पिघल जाए तो समुन्द्र का जलस्तर 70 मीटर तक बढ़ जाएगा जिससे कई शहर व द्वीप पूरी तरह डूब जाएंगे।

प्रयागराज में सांसद रीता बहुगुणा जोशी ने लगवाई कोरोना वैक्सीन

Previous article

‘सोनम वांगचुक’ का नया आविष्कार, जोजिला में बर्फ की 14 km लंबी सुरंग बनाने में जुटे

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.