charbagh bus stand lockdown thumb लॉकडाउन का उठा रहे फायदा, किराए के नाम पर वसूली का आरोप

लखनऊ। यूपी में कोरोना की चेन को तोड़ने के लिए हर रविवार को कम्प्लीट लॉकडाउन का एलान कर दिया गया है। रविवार को इसका असर भी राजधानी लखनऊ में देखने को मिला। सड़कों पर जहां पूरी तरह सन्नाटा दिखाई दिया तो वहीं हर चौराहे पर पुलिस मुस्तैदी से डटी रही।

हालांकि ट्रेनों और बसों से आ रहे यात्रियों को घर पहुंचाने के लिए रोडवेज की बसें लगी रहीं। लेकिन, बस अड्डों पर भी अव्यवस्था का आलम दिखाई दिया। चारबाग बस अड्डे पर यात्रियों की भीड़ दिखाई दी। बसों के इंतजार में बैठे यात्रियों की आंखों में अपने घर पहुंचने की ललक दिखाई दे रही थी।

मनमाना वसूल रहे किराया

लखनऊ से सुलतानपुर जाने वाली बस में बैठे यात्रियों ने बताया कि उनसे मनमाना किराया वसूला जा रहा है। यात्रियों ने आरोप लगाया कि कंडक्टर ने कह दिया है कि सुलतानपुर का पूरा किराया देना पड़ेगा, भले ही आप उसके पहले क्यों ना उतरें। यात्रियों ने बताया कि हमारे पास कोई दूसरा विकल्प भी नहीं और क्या किया जा सकता है।

देखें ये पूरा विडियो

 

भूखे-प्यासे हो रहे बेहाल

दूसरे राज्यों से ट्रेनों और बसों से आए यात्री भूख प्यास से बेहाल दिखे। लॉकडाउन की वजह से सभी दुकानें बंद करा दी गई हैं। ऐसे में यात्रियों के पास खाने पीने का कोई विकल्प भी नहीं था। बसों के आने का कोई टाइम भी नहीं है। गुजरात से आए एक यात्री ने बताया कि उन्हें रायबरेली जाना है। हम गुजरात से जो खाने पीने का सामान लेकर चले थे वो तो ट्रेन में ही खत्म हो गया। सोचा था लखनऊ से रायबरेली कितना दूर है ही, लेकिन यहां तो तीन घंटे से बस का ही इंतजार कर रहा हूं। अभी तक कोई बस आई नहीं है। भूख के मारे दम निकला जा रहा है, लेकिन क्या कर सकता हूं। पानी पीकर किसी तरह भूख से लड़ रहा हूं।

चुनावी ड्यूटी में हैं बसें

एक कर्मचारी ने बातचीत के दौरान बताया कि लखनऊ में समेत कई जिलों में सोमवार को ही पंचायत का चुनाव है। अधिकांश बसों को तो चुनावी ड्यूटी में लगा दिया गया है। अब यहां पर जितनी बसें हैं उनसे ही काम चलाया जा रहा है। दूसरे कोई साधन भी नहीं हैं, ऐसे में पूरा लोड रोडवेज पर ही है। कोशिश है कि जो बसें हमारे पास हैं उनका चक्कर बढ़ाकर यात्रियों को घर पहुंचाया जाए।

बड़ी संख्या में आ रहे यात्री

इस समय यूपी में पंचायत चुनाव के साथ सहालग भी है। ऐसे में दूसरे राज्यों से प्रवासियों के आने का सिलसिला जारी है। बसों और ट्रेनें पहले से ही फुल चल रहीं हैं। अधिकांश ट्रेनों का संचालन पहले से ही नहीं हो रहा है। ऐसे में प्रवासी किसी तरह लखनऊ तक तो आ जा रहे हैं, लेकिन यहां से उनको अपने घर जाने के लिए बसों का ही सहारा है। जबकि अधिकांश बसें चुनावी ड्यूटी में हैं। ऐसे में रोडवेज के सामने संकट खड़ा हो गया है।

यात्रियों को नहीं होने दी जाएगी दिक्कत

चारबाग बस अड्डा इंचार्ज एस के गुप्ता ने बताया कि ये सच है कि बसें चुनावी ड्यूटी में हैं। लेकिन, हमारे पास बसों की कमी नहीं है। यात्रियों की हर सुविधा का ख्याल रखा जा रहा है। उनको सुरक्षित घर पहुंचाने की जिम्मेदारी हमारी है। हम लगातार समय पर बसों को छोड़ रहे हैं।

अस्पतालों में बेड व ऑक्सीजन की कमी पर सीएम योगी ने दिए ये निर्देश

Previous article

बंगाल: कोरोना के चलते राहुल गांधी ने रद्द की चुनावी रैली, सरकार पर कसा तंज

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.