योगा12 अगर आप भी लेती हैं पीरियड्स में पेनकिलर तो हो जाएं सावधान, इन बड़ी परेशानियों का करना पड़ सकता है सामना

पीसीओडी की समस्या हाल के सालों में महिलाओं में बड़ी तेजी से बढ़ रही है। जिसकी वजह से महिलाएं पीसीओडी के समस्या से निजात पाने के लिए पेनकिलर का इस्तेमाल करने लगी है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ एंड रिसर्च के मुताबिक हमारे देश में तकरीबन 10 प्रतिशत महिलाएं पीसीओडी से समस्या से लड़ रही हैं।

क्या है पीसीओडी?

पीसीओडी यानि पॉलीसिस्टिक ओवरी डिसऑर्डर की समस्या आमतौर पर महिलाओं के अंदर हॉर्मोनल असंतुलन होने के कारण होती है। इसमें महिला के शरीर में पुरुष हार्मोन एण्ड्रोजन का लेवल बढ़ जाता है और अंडाशय पर सिस्ट बनने लगते हैं। सामान्य तौर पर मनुष्यों में शरीर की सभी प्रक्रियाओं के सही तरह से काम करने के लिए “पुरुष” और “महिला” दोनों हार्मोन की आवश्यकता होती है, लेकिन पीसीओडी वाली महिला में बहुत अधिक पुरुष हॉर्मोन की मात्रा सामान्य से ज़्यादा बढ़ जाती हैं। जिस कारण से अंडाशय में समस्या पैदा होने लगती है और साथ ही अनियमित पीरियड्स की समस्या होने लगती है।

इन वजहों से महिलाओं में बढ़ रही पीसीओडी

मामले में एक्सपर्ट्स का कहना है कि महिलाओं में पीसीओडी की समस्या अत्याधिक टेंशन लेने की वजह से बढ़ रहा है। भागदौड़ भरी लाइफस्टाइल से बढ़ते स्ट्रेस, देर रात तक जागना, स्मोकिंग और ड्रिंकिंग जैसी आदतों की वजह से पीसीओडी की समस्या महिलाओं में बढ़ रही है। और इसी वजह से महिलाओं के शरीर में हार्मोंस का लेवल गड़बड़ा जाता है।

योगा1 अगर आप भी लेती हैं पीरियड्स में पेनकिलर तो हो जाएं सावधान, इन बड़ी परेशानियों का करना पड़ सकता है सामना

योगासन से दूर होगी पीसीओडी की समस्या

पीसीओडी पर एक्सपर्ट का कहना है कि बिना पेनकिलर के इस्तेमाल किए महिलाएं इस समस्या से छुटकारा पा सकती है। ऐसे में महिलाओं को कुछ योगासन को अपने डेली रूटीन में शामिल करना चाहिए। इससे पीसीओडी में आराम मिलेगा और दूसरी कई समस्याएं भी दूर होंगी। पीसीओडी को जड़ से समाप्त करना है तो तितली आसन का इस्तेमाल महिलाओं को नियमित करना चाहिए।

तितली आसन विधि : तितली आसन करने की विधि है कि सबसे पहले जमीन में मैट बिछा लें। अपने दोनों पैरों को सामने की तरफ सीधा करके बैठ जाएं। रीढ़ की हड्डी को एकदम सीधी रखें। पैरों को मोड़कर दोनों तलवों को आपस में जोड़ लें। हाथों की अंगुलियों को पैरों के पंजों के ऊपर लाकर आपस में मिला दें। अपनी एड़ियों को शरीर से सटा कर रखें। सांस लेते हुए दोनों पैरों को एक साथ ऊपर और नीचे करें। ऐसा 15-20 बार करें।

तितली आसन लाभ : इस आसन को करने से पीरियड्स के दौरान होने वाले पेट, कमर दर्द में भी राहत मिलती है। यह पीरियड्स में होने वाली समस्याओं को दूर करता है। रोजाना इस आसन को करने से महिलाओं को डिलीवरी के दौरान दर्द कम होता है। यह तनाव को कम करता है। इसे करने से जांघों की मांसपेशियां मजबूत बनती हैं।

बसवार गांव पहुंची रीता बहुगुणा जोशी, मामले की जांच के दिए आदेश

Previous article

वृंदावन कुंभ में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत ने किए बांके बिहारी के दर्शन

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured