लालू यादव अगर बिहार के विकास की सोचते तो सत्ता उनके हाथ से नहीं जाती : पटेल

लालू यादव अगर बिहार के विकास की सोचते तो सत्ता उनके हाथ से नहीं जाती : पटेल

पटना। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने सत्ता में रहते हुए यदि बिहार के विकास पर ध्यान दिया होता तो आज उनके हाथ से बिहार की सत्ता नहीं जाती | यह बातें राष्ट्रीय सामाजिक न्याय मोर्चा के राष्ट्रीय महासचिव सह मुख्य प्रवक्ता नीलमणि पटेल ने मंगलवार को एक बयान में कही। पटेल ने कहा कि राजद सुप्रीमो ने बिहार की जनता की चिन्ता छोड़ सत्ता में रहकर केवल भ्रष्टाचार, घोटाले के माध्यम से अपने और अपने परिवार के लिए धन उगाही का रास्ता अख्तियार किया जो एक राजनेता को शोभा नहीं देता।

lalu yadav
lalu yadav

बता दें कि मोर्चा के राष्ट्रीय प्रवक्ता पटेल ने आगे कहा कि राजद सुप्रीमो के पास अनेक अवसर थे जब वे बिहार के विकास को लेकर गंभीर हो सकते थे, किन्तु उन्होंने सदैव लोगों को जातपात की राजनीति में उलझाकर अपना उल्लू सीधा किया। यदि जातिगत राजनीति से ऊपर उठकर वे बिहार में शिक्षा स्वास्थ्य, सड़क, चिकित्सा व्यवस्था को ठीक कर युवाओं को रोजगार देने का रास्ता निकालते तो आज बिहार में उनकी छवि विकासशील नेता की होती और बिहार की जनता नि:संदेह उनके हाथ में सत्ता की चाभी दे देती |

वहीं किन्तु उन्होंने ऐसा किया नहीं और वे राजनीति के माध्यम से घोटालों और सम्पत्ति अर्जित करने का रास्ता अख्तियार किया और सम्पत्ति अर्जित की। परिणाम यह हुआ कि आज खुद के बनाये हुए भंवर में फंस गए | उन्होंने कहा कि बिहार के विकास के मुद्दे पर नीतीश कुमार ने कोई समझौता नहीं किया और उन्होंने अल्पकाल में जिस तीव्र गति से बिहार के विकास का काम किया है इसकी चर्चा आज पूरी दुनिया में हो रही है। बिहार की जनता विकास चाहती है, जातिगत आधारित राजनीति नहीं।