November 28, 2021 11:17 pm
featured Breaking News दुनिया

तुर्की तख्तापलट की कोशिश में 90 की मौत (वीडियो)

Turky 2 तुर्की तख्तापलट की कोशिश में 90 की मौत (वीडियो)

अंकारा। तुर्की सैन्य तख्तापलट में मृतकों की संख्या बढ़कर 90 हो गई है, जबकि घायलों की संख्या 1,154 हो गई है। सरकारी एनादोलु समाचार एजेंसी के अनुसार, अंकारा के गोलबासी जिले में 42 लोगों की मौत हो गई। तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एरदोगन ने शनिवार को इस्तांबुल के अतातुर्क हवाईअड्डे पर उतरने के बाद कहा कि वह तुर्की के मनमारिस के जिस रिजॉर्ट में रूके थे। उनके रिसॉर्ट छोड़ने के बाद वहां बम से हमला किया गया।

Turky

उन्होंने देश में चल रहे तख्तापलट के प्रयासों के लिए तुर्की के इस्लामिक धर्मप्रचारक फेतुल्लाह गुलेन को जिम्मेदार ठहराया। एरदोगन ने पार्टी के महासचिव के अपहरण का खुलासा करते हुए विद्रोहियों से पूछा “तुम लोग महासचिव के साथ क्या करने वाले हो?”

‘बीबीसी’ की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री बिनाली यिलदिरीम का कहना है कि स्थिति पर काफी हद तक नियंत्रण पा लिया गया है और अभी तक 130 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है। उन्होंने सेना से तख्तापलट के लिए इस्तेमाल में लाए जा रहे विमानों को मार गिराने के आदेश दिए हैं। इससे पहले, अंकारा में तख्तापलट के लिए इस्तेमाल में लाए जा रहे हेलीकॉप्टर को मार गिराया जा चुका है।

अंकारा में विमानों और हेलीकॉप्टर के संचालन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ‘बीबीसी’ के मुताबिक, अभी तक सेना प्रमुख के बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है। अभी भी कई शहरों से भारी गोलीबारी हो रही है।

‘सीएनएन’ के मुताबिक, इस्तांबुल के अतातुर्क हवाईअड्डे को दोबारा खोल दिया गया है और समाचार चैनलों ने भी दोबारा प्रसारण शुरू कर दिया है। गौरतलब है कि शुक्रवार रात को सेना के एक समूह ने समाचर चैनलों का प्रसारण बंद करवा दिया था।

मैं अभी भी राष्ट्रपति पद पर हूं: एरदोगन

तुर्की की सेना ने शुक्रवार देर रात देश पर कब्जा करने का दावा किया। इस बीच तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एरदोगन ने ‘फेसटाइम’ के जरिए देश को संबोधित करते हुए कहा कि वह अभी भी राष्ट्रपति पद पर बने हुए हैं। उन्होंने विपक्षी बलों को ध्वस्त करने की प्रतिबद्धता जताई।

तुर्की में संसद के पास टैंकों से गोले दागे गए और अंकारा में सैन्य जेट विमानों को उड़ते देखा जा सकता है। एरदोगन ने वीडियो संदेश में कहा, “मैं देश की जनता से सड़कों पर उतरने का आह्वान कर रहा हूं। आओ, इन्हें सबक सीखाएं। मुझे नहीं लगता कि तख्तापलट की यह कोशिश सफल होगी। इतिहास में तख्तापलट की कोई भी साजिश सफल नहीं हुई।”

फर्स्ट आर्मी कमांडर उमित डुंडर ने कहा, “तख्तापलट की साजिश रचने वालों की सेना में मामूली संख्या है। चिंता करने की जरूरत नहीं है।”

तुर्की की समाचार एजेंसी ‘एनादोलु’ ने एरदोगन के हवाले से बताया कि तख्तापलट की कोशिश करने वाले लोगों की पहचान हो गई है। ये आतंकवादी संगठन एफईटीओ/पीडीवआई से जुड़े हुए हैं। प्रधानमंत्री बिनाली यिलदिरीम ने शुक्रवार रात को देश को संबोधित करते हुए कहा, “यह लोकतंत्र पर हमला है। हम इसे सहन नहीं करेंगे। लोकतंत्र पर किसी तरह का कोई समझौता बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। दोषियों को इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ेगी।”

सरकारी समाचार चैनल ‘टीआरटी’ ने बताया कि सेना ने मार्शल लॉ और कर्फ्यू लागू कर दिया है।

(आईएएनएस)

Related posts

ग्वालियर में जन्मे अटल जी का कैसे था यूपी से नाता? बटेश्वर गांव से क्या है रिश्ता

Shailendra Singh

एससी/एसटी एक्ट में दाखिल पुर्विचार याचिका पर 3 मई को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

rituraj

पीएम मोदी ने की जमीयत उलेमा ए हिन्द की तारीफ, 22 मंदिरों कि की थी सफाई

Rani Naqvi