September 25, 2021 12:01 pm
featured देश

स्कूल खोलने को लेकर HRD मंत्रालय ने मांगी छात्रों के माता-पिता से सहमति

closed school स्कूल खोलने को लेकर HRD मंत्रालय ने मांगी छात्रों के माता-पिता से सहमति

देश में कोरोना के चलते सभी स्कूल-कॉलेज बंद है। कोरोना वायरस दिन पर दिन पनपता जा रहा है और हालात गंभीर होते जा रहे हैं।

नई दिल्ली। देश में कोरोना के चलते सभी स्कूल-कॉलेज बंद है। कोरोना वायरस दिन पर दिन पनपता जा रहा है और हालात गंभीर होते जा रहे हैं। ऐसे में स्कूलों को खोलना बहुत बड़ी चुनौती बन गया है। शिक्षा मंत्रालय ने ऐसे में बच्चों के माता-पिता से राय मांगी है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के छात्रों के माता-पिता से सहमति ली है कि अगस्त-सितंबर में स्कूल खोले जाए या नहीं। विकास मंत्रालय को भी इस मामले में सर्कुलर भेजा गया है और स्कूल खोलने पर उनकी क्या अपेक्षाएं है इसके बारे में उनसे जानकारी ली है। सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के शिक्षा सचिवों को 20 जुलाई तक इस रिपोर्ट को सबमिट करने के लिए कहा गया है।

बता दें कि कोविड-19 के चलते पढ़ाई में हुए नुकसान को सोचते हुए छात्रों के बारे में सोचते हुए  एक बड़ा फैसला लिया गया है। सरकार ने छात्रों का सिलेबस अगसत के पहले हफ्ते में 9वीं से 12वीं क्लास के सिलेबस को 30 फीसदी कम करने की फैसला लिया है। सिलेबस को कम इस लिए किया गया है ताकि छात्रों पर पढ़ाई का प्रेशर न पड़े।

https://www.bharatkhabar.com/rafael-will-come-to-india-on-july-29/

वहीं दूसरी तरफ पढ़ाई नुकसान को रोकने के लिए HRD मंत्रालय लगातार ऑनलाईन को प्रमोट कर रहा है। मानव संसाधन विकास मंत्री ने ऑनलाइन एजुकेशन को और अच्छा करने के लिए कई कदम उठाए हैं। ताकि कोरोना महामारी के के चलते भी छात्रों की पढ़ाई का नुकसान न हो और छात्र घर में रहकर अच्छी शिक्षा पा सके।

कोरोना महामारी के चलते स्कूल बंद हुए 4 महीने से ज्यादा हो गए हैं। वहीं कुछ संसथान लगातार नियमित रूप से ऑनलाइन कक्षाएं संचालित कर रहे हैं। ऑनलाइन क्लास के चलते बच्चे ज्यादातर वक्त स्क्रीन पर गुजार रहे हैं। छात्रों की पढ़ाई को लेकर उनके अभिभावकों ने चिंता जाहिर थी। इसके जवाब में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से प्रज्ञता नामक निर्देश जारी किए गए हैं कि पूर्व प्रथामिक छात्रों के लिए ऑनलाइन कक्षाओं का वक्त 30 मिनट से ज्यादा नहीं होना चाहिए। वहीं 8 के लिए 45 मिनट का वक्त होना चाहिए। वहीं कक्षा 7 से 12 के लिए 30 से 45 मिनट का सुझाव दिया गया है।

Related posts

भूकंप के झटकों से थर्राया पापुआ न्यू गिनी, पड़ोसी देशों में सुनामी की चेतावनी

Rahul srivastava

कोरोना के चलते देश में लगे लॉकडाउन के कारण  लोग घरों में बंद होकर देख रहे देसी पोर्न वीडियो

Rani Naqvi

बीएस येदियुरप्पा ने पीएम से की मुलाकात, बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लिए राहत राशि की मांग

bharatkhabar