anamika 1 योगी सरकार की नाक के नीचे 25 जगाह काम करने वाली कौन है शातिर अमानिका शुक्ला?

यूपी के शासन और प्रशासन का सिर घुमा देने वाली अनामिका शुक्ला फर्जीवाड़े केस में एक के बाद एक करके कई सारे खुलासे हुए हैं। जिसने बुद्धिजीवियों की बुद्धी घुमा दी है।आपको बता दें, उत्तर प्रदेश के 25 कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालयों में नौकरी करने के फर्जीवाड़े में नया खुलासा हुआ है। जिस अनामिका सिंह को पुलिस ने शनिवार को कासगंज से पकड़ा है, उसका असली नाम प्रिया जाटव है। हालांकि, अभी यह खुलासा नहीं हो सका कि, अनामिका शुक्ला कौन है? जिसके दस्तावेज पर प्रिया जाटव और अनामिका सिंह जैसी 25 लड़कियां नौकरी कर रही हैं। फिलहाल पुलिस पड़ताल में जुटी है।anamika 3 योगी सरकार की नाक के नीचे 25 जगाह काम करने वाली कौन है शातिर अमानिका शुक्ला?

आपको बता दें, कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालयों में संविदा पर लगने वाली नौकरी में दस्तावेज की जांच नहीं होती है। साक्षात्कार के दौरान ही असली अभिलेख देखे जाते हैं। चयन मेरिट के आधार पर होता है। ऐसे में अनामिका के दस्तावेजों को आधार बनाया, क्योंकि इसमें ग्रेजुएशन को छोड़ कर हाईस्कूल से इंटर तक 76 फीसद से ज्यादा अंक हैं। जनपद कासगंज में पकड़ी गई कथित अनामिका के अनुसार, उसकी मुलाकात गोंडा के रघुकुल विद्यापीठ में बीएससी करते वक्त ही मैनपुरी निवासी राज नाम के व्यक्ति से हुई थी।

उसने प्रिया को नौकरी की सलाह दी। एक लाख रुपए में दस्तावेज पर नौकरी लगवाने का वायदा किया। उसने ही अगस्त 2018 में इसे नियुक्ति पत्र भी दिला दिया था।
कासगंज बेसिक शिक्षा अधिकारी अंजली अग्रवाल के अनुसार अनामिका शुक्ला के मूल दस्तावेजों में धुंधली फोटो भी इस कॉकस की मददगार बनी।

साक्षात्कार के दौरान यह फोटो देखी जाती है, लेकिन धुंधली होने पर अभ्यर्थी के आधार कार्ड और अन्य पहचानपत्र के आधार पर चयन किया जाता है। जिस तरह से बैंकों में अनामिका शुक्ला के नाम से खाता खुलवाया गया, उससे माना जा रहा है कि आधार कार्ड और अन्य दस्तावेज फर्जी तैयार कराए गए हैं।

कैसे खुला मामला?
विभाग ने जब शिक्षकों का डेटाबेस बनाया तो मामला सामने आया। अब इनके खिलाफ जांच का आदेश दिया गया है। अनामिका शुक्ला को प्रदेश के जिलों में 25 विभिन्न स्कूलों में नियोजित किया गया था। हर जगह से उनके खाते में सैलरी भी आ रही थी। एक बार रिकॉर्ड अपलोड होने के बाद, यह पाया गया कि अनामिका शुक्ला, एक ही व्यक्तिगत विवरण के साथ 25 स्कूलों में सूचीबद्ध थीं। जिसके बाद अनामिका शुक्ला के फर्जीबाड़े की पोल खुली। करीब1 साल में अनामिक 1करोड़ से ज्याद रूपये कमा चुकी है।

अनामिका शुक्ला के नाम से फर्जी नौकरी करने वाली शिक्षिका ने पूछताछ में पुलिस को कई बार छकाया। पूछताछ के दौरान बराबर वह अपना नाम बदलती रही। पकड़ी गई शिक्षिका ने ना केवल अपना नाम बदल -बदल कर बताया बल्कि कई बार गुमराह करने वाली जानकारियां देकर पुलिस को परेशान किया।

https://www.bharatkhabar.com/security-forces-launch-operation-against-terrorists-in-jk/
मामले के सामने आने के बाद अनामिका शुक्ला पर केस दर्ज कर लिया गया है। पुलिस जांच करके ये पता लगाने की कोशिश कर रही है कि, आरोपी लड़की के साथ कौन-कौन जुड़ा है।

जाने क्यों सोशल मीडिया पर जोर पकड़ रही है अहीर रेजिमेंट की मांग, क्या है असल मुद्दा

Previous article

यूपी ATS ने हथियार तस्कर जावेद को किया गिरफ्तार, खालिस्तानी आतंकियों को अवैध तरीके से सप्लाई करता था हथियार

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured