Uncategorized

कोरोना से मरने वाले व्यक्ति के शरीर में कितनी देर तक रहता है कोरोना का वायरस?

corona 1 3 कोरोना से मरने वाले व्यक्ति के शरीर में कितनी देर तक रहता है कोरोना का वायरस?

कोरोना वायरस दुनियाभर में मौत बरसा रहा है। हालत इतने बत्तर हो चुके हैं कि, कोरोनी पीड़ितों का इलाज करते करते कई ड़क्टरों की मौत हो चुकी है। तमाम कोशिशों के बाद भी कोरोना का कोई इलाज फिलहाल तो मिला नहीं है।

लेकिन इस बीच काफी लोगों के मन में सवाल उठ रहा है कि, कोरोना से मरने इंसान के शरीर में कितनी देर तक कोरोना का वायरस रहता है।

corona 1 2 कोरोना से मरने वाले व्यक्ति के शरीर में कितनी देर तक रहता है कोरोना का वायरस?
तो आपको बता दें,कोरोना वायरस मरने के बाद भी किसी व्यक्ति के शरीर में तब तक ही जिंदा रह सकता है, जब तक कि व्यक्ति के शरीर में फ्लूड यानी तरल रहता है।

किसी व्यक्ति की मौत के बाद अगर उसे दफना दिया जाए तो उसके शरीर का तरल खत्म होने में करीब 3-4 दिन लग जाते हैं। यानी इन 3-4 दिनों तक वायरस शरीर में रहता है।

इस दौरान अगर किसी ने दफनाए हुए शख्स को निकाला और वायरस कैसे भी मुंह, आंख, नाक या खून के जरिए शरीर में घुसा तो उसका संक्रमित होना तय है।

इसीलिए शुरुआत में मुंबई में कोरोना संक्रमित शवों को दफनाने के बजाय जलाने की बात कही थी। बाकायदा इसे लेकर आदेश भी जारी हुआ, लेकिन बाद में उसे वापस लेना पड़ा क्योंकि विरोध होने लगा था।

मृत कोरोना पीड़ित को बेशक जलाना अधिक सुरक्षित है, लेकिन दफनाने में भी कोई खतरा नहीं है, बशर्ते गाइडलाइन्स का पालन हो।

जैसे शव को छूना, गले लगाना, उसे चूमना नहीं है। उसे नहला-धुलाकर नए कपड़े नहीं पहनाने हैं, जैसा कि भारत में होता है।

शव को एक सील पैक बैग में ही रखना है। अंतिम संस्कार की जह बहुत सारे लोग जमा नहीं होने चाहिए। साथ ही गहरे गड्ढे में दफनाना जरूरी है।

इन सभी तरीकों को अपनाकर कोरोना से मरे व्यक्ति के अंदर मौजूद संक्रमण से बचा जा सकता है।

https://www.bharatkhabar.com/kota-district-declared-affected-by-locust-invasion/
इसलिए सावधनी रखनी बहुत जरूरी है। तभी इससे बच पाएंगे। क्योंकि इस बीमारी का अभी तक कोई इलाज निकलकर सामने नहीं आया है। इसलिे ये बड़ी चुनौती बनी हुई है।

Related posts

क्या आपका खाता स्टेट बैंक में है, सुनों, नियम बदल गया है, इसे जान लो

bharatkhabar

बैंगलोर टेस्टः भारत को जीत के लिए 4 विकटों की दरकार

Rahul srivastava

फर्जी खबर देने वाले पत्रकारों की रद्द होगी मान्यता

Rani Naqvi