नगर निगम सदन द्वारा नए बजट में विकास का बड़ी झलक, जानिए क्या है तैयारी

लखनऊ। नगर निगम हाउस टैक्‍स वसूलने की कवायदों में लगा है लेकिन अव्‍यवस्‍थाओं का आलम यह है कि एक मकान के लिए पति और पत्‍नी दोनों के नाम पर हाउस टैक्‍स की नोटिस भेज रहा है। कोरोनाकाल में दंपति अब बिल को संशोधित कराने के लिए नगर निगम के चक्‍कर लगा रहे हैं।

आलमबाग में गुरुगोविंद सिंह वार्ड स्थित पटेलनगर निवासी राम दुलारे कटियार का मकान 553ए/128 उनकी पत्नी मुन्नी देवी कटियार के नाम है। पत्नी की मृत्यु वर्ष 2000 में ही हो गई थी। उसी मकान का गृहकर अब दोनों के नाम से आ रहा है। एक का बकाया 53694 रुपए तो दूसरे का 38558 रुपए है। उनके समझ में नहीं आ रहा है कि किस बिल का भुगतान करें।

बिल दुरुस्त करने के लिए नगर निगम के अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं, लेकिन उनको टरकाया जा रहा है। राम दुलारे कटियार की उम्र 83 वर्ष है। उन्होंने बताया कि पत्नी के नाम से ही हाउस टैक्स आता था। लगभग 12 वर्ष से उनके नाम से भी हाउस टैक्स का बिल आने लगा है। नगर निगम के जोन पांच कार्यालय में कई बार चक्कर लगा चुके हैं। अधिकारियों से बिल दुरुस्त करने को कह रहे हैं। लेकिन अधिकारी बिल जमा करने के लिए दबाव बना रहे हैं। नोटिस भी भेजी जा रही है।

एक ही भवन स्वामी की दो आईडी

यह स्थिति लखनऊ में सिर्फ एक मकान की नहीं है। बल्कि बड़ी संख्या में ऐसे मामले हैं जहा भवनों के दो-दो बिल बनाकर लोगों को परेशान किया जा रहा है। विराजखण्ड निवासी राजीव वाजपेयी के मकान 1/122 का है। इस मकान का भी दो बिल बना दिया गया है। जबकि वह नियमित बिल भुगताान कर रहे है। उन्हीं के नाम से दो हाउस आईडी बना दी गई है। एक आईडी पर बकाया एक लाख रुपए से ऊपर दिखाया जा रहा है। चिनहट द्वितीय वार्ड विभवखण्ड गोमतीनगर निवासी केशव के मकान का भी दो बिल बना दिया गया है। एक में 68 हजार तो दूसरे में 52 हजार का बकाया दिखाया गया है।

दोहरे बिल से नगर निगम की बकाया धनराशि कोढ़ बनी

नगर निगम की सूची में लगभग 650 करोड़ रुपए बकाया है। इसमें बड़ी धनराशि डबल हाउस आईडी की है। नगर निगम के अधिकारियों के अनुसार बाबू और कर निरीक्षकों के कारण ही दोहरा बिल बन रहा है। इसे दुरुस्त कर लिया जाए तो बकाया धनराशि में काफी कमी हो जाएगी। इसका प्रभाव नगर निगम की बैलेंस सीट पर पड़ रहा है।

एक मकान की दो हाउस आईडी की समस्या को दूर कराया जा रहा है। सभी जोनल अधिकारियों को निर्देश दिया गया है। जो भी शिकायतें आ रही हैं उसे प्राथमिकता पर निस्तारित किया जा रहा है।
– अमित कुमार, अपर नगर आयुक्त, लखनऊ।

Lucknow: आरक्षण समर्थकों ने मनाई ज्योतिबा फुले जयंती, किया ये बड़ा ऐलान

Previous article

शहर में सीएम का औचक निरीक्षण, जानें कैसे लगाई अधिकारियों की क्लास?

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.