गला बैठ जाने पर अपनाएं ये तरीका मिलेगा जबदस्त फायदा

नई दिल्ली।  बदलते मौसम के चलते लोगों को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इन दिनों बदलते मौसम की वजह से गला बैठ जाता है जिसके लिए हम दवाईयों का सेवन करते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि बिना दवाईयों के भी आप अपना गला सही कर सकते हैं। आज हम अपनी इस पोस्ट में आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे आप अपने गले को घरेलू चीजों के जरिए भी खोल सकते हैं।

गला बैठ जाने पर अपनाएं ये तरीका मिलेगा जबदस्त फायदा
गला बैठ जाने पर अपनाएं ये तरीका मिलेगा जबदस्त फायदा

शहद

शहद गले से जुड़ी समस्या जैसे बैठा हुआ गला, गले की सूजन व दर्द को दूर करता हैं। शहद खाने से खांसी की समस्या से भी राहत मिलती हैं। इसलिए इस तरह की समस्या में शहद को लेने से काफी फायदा मिलता हैं।

कैमोमाइल चाय

कैमोमाइल चाय बीमारियों से बचने में मददगार है। इसके अलावा यह गला बैठने की समस्या में दवा के रूप में काम करता है। यह एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट का एक अच्छा स्रोत है जो कई तरह की प्रॉबल्म को दूर करने में मदद करते हैं।

पुदीना

रोजाना पुदीने की ताजा पत्तियों को उबालकर उस पानी से गरारे करें। इससे भी राहत मिलती है। पुदीना सांसों को ताजा करने की क्षमता रखता है। पेपरमिंट ऑयल स्प्रे का इस्तेमाल करने से भी गले का दर्द मिनटों में दूर हो जाता हैं।

बेकिंग़ सोडा

गला खराब है और बोलने में ज्यादा दिक्कत होती है तो गुनगुने पानी में बेकिंग सोडा मिलाकर गरारे करें। इससे काफी राहत मिलेगी। दरअसल, यह पानी बैक्टीरिया को नष्ट करता है और फंगस की समस्या को रोकता हैं।

नमक

नमक के पानी से गरारे करने से बैठा हुआ गला ठीक हो जाता हैं। इसके लिए गर्म पानी में थोड़ा का नमक मिलाएं और कुछ देर तक गरारे करें। नमक का पानी न केवल गले में जमा बलगम खींचता है बल्कि गले की खराश से भी छुटकारा दिलाता हैं।

मेथी 

अधिक दिनों से गला बैठा है तो मेथी के बीज खाएं या फिर इसे तेल और चाय के रूप में भी पी सकते हैं। मेथी की चाय गले के लिए एक प्राकृतिक दवा हैं। इन सभी चीजों के अलावा आप अपने गले को सही करने के लिए स्टीम का भी यूज कर सकते हैं। इससे ट्रीटमेंट से भी काफी फायदा मिलेगा। स्टीम शॉवर के लिए गर्म पानी से भाप बनाएं। फिर सिर पर एक तौलिया डालें और भाप में सांस लें। कुछ मिनटों के लिए गहरी सांस लेते रहें।

ये भी पढे़ं:-

बदलते मौसम की मार में-ऐसे करें त्वचा की रक्षा

बदलते मौसम का कहर, अस्पतालों में बढ़ रहे हैं वायरल बुखार के मरीज