mehul choksi
mehul choksi

डोमिनिका हाईकोर्ट ने भगोड़े मेहुल चोकसी की जमानत याचिका पर सुनवाई 11 जून तक के लिए टाल दी है। जिसके बाद भगोड़े कारोबारी को अभी कुछ दिन और जेल में गुजारने होंगे। दरअसल चोकसी ने मजिस्ट्रेट अदालत में जमानत याचिका खारिज होने के बाद हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। जिसकी जानकारी स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स में दी गई।

सरकारी पक्ष ने चोकसी को बताया भगोड़ा

भगोड़े कारोबारी की जमानत याचिका पर हाईकोर्ट के जज वायनाटे एड्रियन-रॉबर्ट्स की पीठ ने सुनवाई की। इस याचिका को चोकसी की स्थानीय लीगल टीम ने दायर किया है। चोकसी की लीगल टीम में जूलियन प्रीवोस्ट, वेन नोर्डे, वेन मार्श और कारा शिलिंगफोर्ड-मार्शो शामिल हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार डायरेक्टर ऑफ पब्लिक प्रोशिक्यूशन शेरमा डेलरिम्पल द्वारा प्रतिनिधित्व किए गए सरकारी पक्ष ने चोकसी की याचिका पर आपत्ति जताई और उसे भगोड़ा बताया।

मामला 11 जून तक के लिए स्थगित

जज ने इस मामले को 11 जून तक के लिए स्थगित कर दिया। वहीं हाईकोर्ट चोकसी की टीम द्वारा दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण के एक अलग मामले की भी सुनवाई कर रहा है जिसकी सुनवाई भी स्थगित कर दी गई। बता दें कि चोकसी 23 मई को एंटीगा एंड बारबुडा से गायब हो गया था। और 2018 से एंटीगा में एक नागरिक के रूप में रह रहा था। वहीं चोकसी को 26 मई को उसकी कथित गर्लफ्रेंड के साथ डोमिनिका में अवैध तरीके से घुसने के आरोप में हिरासत में लिया गया था।

चोकसी ने दर्ज कराई है शिकायत

वहीं मेहुल चोकसी ने अपनी कथित पिटाई को लेकर शिकायत दर्ज कराई है। चोकसी का कहना है कि 8-10 लोगों ने उसे बेरहमी से पीटा और उसका फोन, घड़ी और बटुआ छीन लिया। 30 मई को डोमिनिका की जेल से मेहुल चोकसी की कुछ तस्वीरें सामने आई थीं, जिसमें वो अपनी चोट के निशान दिखाता नजर आ रहा था। उसके हाथ पर चोट के निशान थे।

आखिरकार आईआईटी कानपुर ने खोज निकाला कैलिफोर्नियम के पीछे छुपा राज, जानिए क्या आंकी गई कीमत

Previous article

जहरीली शराबकांड: कांग्रेस अध्यक्ष के नेतृत्व में पार्टी ने बोला हल्ला

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured