sunny deol hema malini लोकसभा में एक साथ नहीं बैठेंगे हेमा मालिनी व सनी देओल, जानें क्या हुआ दोनों

एजेंसी, नई दिल्ली। 2019 लोकसभा चुनाव में कई बॉलीवुड सेलेब्स राजनीति के मैदान में उतरे, कुछ को सफलता हाथ लगीं तो कुछ को हार का स्वाद चखना पड़ा। इस स्टार लिस्ट में शामिल सनी देओल ने बीजेपी की ओर से चुनाव लड़ा और जीत हासिल की। वहीं उनकी मां हेमा मालिनी ने भी बीजेपी की ओर से ही जीत का झंडा फहराया। लेकिन जीत के बाद भी एक ही परिवार के दो सदस्य संसद में एक साथ नहीं बैठेंगे। जानिए क्या है इसकी वजह..
संसद में हेमा मालिनी और सनी देओल के एक साथ नहीं बैठने की वजह रिश्तों की खटास नहीं बल्कि कुछ और ही है। दरअसल हेमा मालिनी सीनियर सांसद हैं और सनी देओल पहली बार संसद में अपनी मौजूदगी दर्ज करवाएंगे। ऐसे में जानकारी के मुताबिक हेमा संसद में आगे की सीटों पर बैठेंगी जबकि नवनिर्वाचित सासंद सनी देओल को पीछे की किसी सीट पर जगह मिलेगी।
गौरतलब है कि सनी देओल ने पंजाब के गुरदासपुर से चुनावी मैदान में कदम रखा है। सनी देओल का सीधा मुकाबला कांग्रेस के सुनील जाखड़ से था। जिनको सनी ने 82459 वोटों से मात दी है। बता दें कि यह सीट बीजेपी की पारंपरिक सीट मानी जाती है। इस सीट से पिछली बार तक दिवंगत एक्टर विनोद खन्ना चुनाव लड़ते थे।
यूपी की मथुरा सीट से दूसरी बार हेमा मालिनी ने जीत हासिल की है। बता दें कि इस बार हेमा का मुकाबला राष्ट्रीय लोकदल के नेता कुंवर नरेन्द्र सिंह से था। जिनको हेमा ने 293471 वोटों से मात दी है। गौरतलब है कि 2014 लोकसभा चुनावों में हेमा ने 330743 वोटों से जीत हासिल की थी।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सनी देओल ने गुरदासपुर के लोगों से और अपनी राजनीतिक टीम से बातचीत कर समस्याओं की लिस्ट बना ली है। जिसपर वो जल्द ही काम करना शुरू कर देंगे। -अमर उजाला

bharatkhabar
‘Bharat Khabar.com’ is a leading and fastest news service station which provides you news and analysis from India and South Asia from the region prospective.It was established in 2006. for 10 years, it has been it is a full-fledged website putting out news 24×7, covering events of interest to this region from around the world. Our growth has been fulled by the desire to fulfill the basic human need for knowledge and information, and we have done so with truth, credibility, quality and speed as our guiding principles.

    मंत्री बनवाने, सरकारी अनुदान दिलवाने के नाम पर करते थे ठगी, पुलिस ने दबोचा तो उगल दिया राज

    Previous article

    जहरीली शराब ने फिर ले ली बारह लोगों की जान, देखें कैसे बनाते थे यह शराब

    Next article

    You may also like

    Comments

    Comments are closed.

    More in देश