हस्तशिल्प सेवा केंद्र से प्रयागराज में कारीगरों को मिलेगी पहचान, लगेगा 2 दिन का कैंप

प्रयागराज: कारीगरों की कला में और निखार लाने के लिए जिले में हस्तशिल्प सेवा केंद्र खुलने जा रहा है। इसके माध्यम से सभी लोगों को सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलेगा और उनका हुनर भी अच्छा होगा।

विश्व मंच के लिए किया जाएगा तैयार

हस्तशिल्प सेवा केंद्र के माध्यम से कारीगरों को विश्वस्तरीय डिजाइन बनाने की तकनीक सिखाई जाएगी। इस प्रशिक्षण के लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया के माध्यम से होगी। ऐसे कैंप हर जिले में 2 दिन के लिए लगाए जाएंगे। इस पंजीकरण के माध्यम से कई सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलेगा।

सिविल लाइंस में खुलेगा केंद्र

हस्तशिल्प केंद्र प्रयागराज के सिविल लाइन में खुलने जा रहा है, यह शहर के नवाब युसूफ रोड पर स्थित होगा। इस भवन से जुड़ी कागजी प्रक्रिया भी जल्दी पूरी कर ली जाएगी। उसके बाद यहां कामकाज पूरी तरीके से शुरू कर दिया जाएगा। इस सेवा केंद्र के तहत उत्तर प्रदेश के कुल 8 जिले आएंगे। जिनमें जालौन, हमीरपुर, महोबा, कौशांबी, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, प्रतापगढ़ शामिल होंगे।

हस्तशिल्प सेवा केंद्र से प्रयागराज में कारीगरों को मिलेगी पहचान, लगेगा 2 दिन का कैंप

हस्तशिल्प

अभी इन जिलों के कारीगरों को किसी भी काम के लिए वाराणसी जाना होता है। केंद्र के शुरू होने के बाद सभी जिलों में 2 दिन का कैंप लगाया जाएगा। जिसमें कारीगर अपना रजिस्ट्रेशन घर बैठे करवा सकेंगे। इस रजिस्ट्रेशन का फायदा वस्त्र मंत्रालय से मिलने वाली योजनाओं में भी मिलेगा।

पहचान कार्ड से होगी नई शुरुआत

हस्तशिल्प सेवा केंद्र में शामिल सभी कारीगरों को एक विशेष पहचान कार्ड भी दिया जाएगा। उन्हें प्रशिक्षण के साथ-साथ वैश्विक बाजार के बारे में भी बताया समझाया जाएगा। प्रशिक्षकों की मदद से उनकी तकनीकी कुशलता को भी बेहतर करने की कोशिश की जाएगी। प्रयागराज में होने वाली यह शुरुआत हस्तशिल्प कारीगरों के सपनों को नई ऊंचाई तक ले जाएगी।

जौनपुर से पंचायत चुनाव लड़ेंगी अभिनेत्री दीक्षा सिंह, जानिए इनके बारे में

Previous article

सपा ने तैयार किया विधानसभा चुनाव की तैयारियों का खाका, जानिए क्या है रणनीति

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.

More in featured