September 26, 2021 12:35 am
featured राजस्थान

राजस्थान सिसायी बवाल: अब राज्यपाल ने लौटाई गहलोत की सत्र बुलाने की प्रस्ताव फाईल

kalraj mishr राजस्थान सिसायी बवाल: अब राज्यपाल ने लौटाई गहलोत की सत्र बुलाने की प्रस्ताव फाईल 

राजस्थान की राजनीति में ऐसा लग रहा है कि राज्यपाल कलराज मिश्र और सीएम गहलोत के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है।

जयपुर: राजस्थान की राजनीति में ऐसा लग रहा है कि राज्यपाल कलराज मिश्र और सीएम गहलोत के बीच टकराव बढ़ता जा रहा है। विधानसभा सत्र बुलाने के लिए सीएम अशोक गहलोत के प्रस्ताव पर फिर से मंजूरी देने से राज्यपाल कलराज मिश्र ने इंकार कर दिया है। प्रस्ताव की प्राइल में राज्यपाल की ओर से सवाल उठाए गए हैं। सीएम अशोक गहलोत की ओर से राज्यपाल को प्रस्ताव भेजा था। प्रस्ताव में लिखा गया था कि 31 जुलाई से विधानसभा का सत्र बुलाया जाए।

बता दें कि सीएम गहलोत पिछले हफ्ते से ही विधानसभा बुलाने की कोशिश कर रहे हैं। इसके मामले में वो कई बार गर्वनर से कई बार मिल चुके हैं। वहीं दबाव बनाने के लिए गहलोत विधायकों को लेकर राजभवन पहुंची थी। यहां उनके साथ पहुंचे विधायकों ने राजभवन के अंदर गहलोत के समर्थन में नारे भी लगाए थे, जिसपर राज्यपाल ने गुस्सा दिखाया था। गहलोत ने अपने विधायकों को राजभवन की परेड पर ले जाने के पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा था कि राज्यपाल ऊपरी दबाव में काम कर रहे हैं।

https://www.bharatkhabar.com/actor-sonu-sood-gave-tractor-to-farmer/

साथ ही उन्होंने शुक्रवार को राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले के बाद फिर राज्यपाल से मिलने का फैसला किया था। उन्होंने इसके पहले मीडिया से बातचीत में राज्यपाल के जरिए बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा था कि ‘हम विधानसभा सत्र बुलाना चाहते हैं लेकिन हमें मौका नहीं दिया जा रहा है। राज्यपाल ऊपर से आ रहे दबाव के चलते राज्यपाल विधानसभा सत्र बुलाने का निर्देश नहीं दे रहे हैं।  उन्होंने कहा कि  राज्यपाल ने जो शपथ ली है उस के हिसाब से काम करें वरना राजस्थान की जनता राजभवन का घेराव करेगी और हम कुछ नहीं कर पाएंगे।

वहीं गहलोत बस राज्यपाल पर ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी हमलावर हो रहे हैं। रविवार को उन्होंने एक ट्वीट कर पीएम मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा। कांग्रेस के अभियान ‘स्पीक अप फॉर डेमोक्रेसी’ के तहत गहलोत ने एक ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और उनकी पार्टी को सोचना पड़ेगा कि चुनी हुई सरकारों को गिराने का इरादा छोड़ें, तब जाकर लोकतंत्र मजबूत होगा। नहीं तो आने वाला इतिहास किसी को माफ नहीं करेगा। उन्होंने इस ट्वीट में लिखा कि ‘जो गलती करेगा उसे उसकी कीमत चुकानी पड़ेगी।

Related posts

अरुणाचल में तुकी सरकार बहाल, मोदी पर बरसा विपक्ष

bharatkhabar

भारत से जंग करना चीन को पड़ेगा भारी, जानिए भारत के सामने कमजोर क्यों पड़ा चीन..

Mamta Gautam

राजीव गांधी की तरह पीएम मोदी को मारने की रची जा रही साजिश, नक्सलियों की चिट्ठी से हुआ खुलासा

rituraj