GST जीएसटी के कारण बढ़ी है सरकार की आमदनी: वित्त मंत्रालय

नई दिल्ली। जीएसटी को देश में लागू हुए 2 महीने का वक्त बीत चुका है। वित्त मंत्रालय की माने इस दौरान बड़े तादात में व्यापारी और कारोबारी उससे जुड़े हैं। आकड़ों की माने तो 30 अगस्त के पहले-पहले करीब 38 लाख से ज्यादा कारोबारियों ने अपना टैक्स रिटर्न फाइल किया है। जो कि पिछले कई साल के आंकड़ों से बहुत ज्यादा है। जिसके बाद अगर देखा जाये तो केवल जुलाई में इसकी कुल आमदनी करीब 94700 करोड़ हुई है। इससे वहीं अब तक का सबसे ज्यादा टैक्स खजाने में जमा हुआ है।

GST जीएसटी के कारण बढ़ी है सरकार की आमदनी: वित्त मंत्रालय

जीएसटी के चलते अब छोटे-बड़े सभी व्यापारियों को नियमित टैक्स अदा करना पड़ रहा है। बीते अगस्त माह के आखिरी हफ्ते के बारे में वित्त मंत्रालय के सूत्रों की माने तो 44 लाख के आस-पास लोगों ने अपना 2500 करोड़ का टैक्स खजाने में जमा कराया है। अभी तक टैक्स अदा करने वाले रजिस्टर्ड टैक्स पेयरों में से केवल 74 फीसदी ने ही अपना टैक्स अदा किया है। अभी कुल 11 लाख व्यापारियों को अपना टैक्स भरा है।

बीते माह अगस्त के आखिरी हफ्ते के आंकड़ों पर अगर नजर डालें तो सीजीएसटी के मद में 14894 करोड़, एसजीएसटी के मद में 22722 करोड़,आईजीएसटी के मद में 47469 करोड़ और सेस के मद में 7198 करोड़ रूपये खजाने तक आये हैं। अभी तक जीएसटी लागू होने के पहले केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर विभाग और राज्यों के वाणिज्यिक कर विभाग में 72.33 लाख करदाता पंजीकृत थे। जीएसटी के लागू होने के बाद 58.53 कर दाताओं ने अपना माइग्रेशन जीएसटीएन में करवा लिया जिसके बाद मात्र 13.80 लाख करदाता बाकी बचे हैं। जिसने माइग्रेशन की प्रक्रिया में कुछ कमी शेष है। वित्त मंत्रालय के आंकडों की माने तो 13.80 लाख कर दाता 29 अगस्त के पहले जीएसटी की प्रक्रिया से जुड़े हैं।

भाजपा सांसद के बिगड़े बोल, सांसद ने की हाई कोर्ट के आदेशों कि अवहेलना

Previous article

स्वाइन फ्लू की चपेट में आए कई लोग

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.