featured यूपी

Good News: वाराणसी में कोरोना संक्रमितों का रिकवरी रेट बढ़ा, वैज्ञानिकों ने कही ये बड़ी बात

Good News: वाराणसी में कोरोना संक्रमितों का रिकवरी रेट बढ़ा, वैज्ञानिकों ने कही ये बड़ी बात

वाराणसी। कोरोना महामारी के बीच चारो ओर से मिलने वाली बुरी खबरों के बीच एक अच्छी खबर वाराणसी के लिए ये आ रही है कि कोरोना की रफ्तार अगले 2-3 हफ्तों में कम हो जायेगा। ऐसा कोई और नहीं, बल्कि BHU के जंतु विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक दावा कर रहें हैं। इसके अलावा भी यह भी बताया कि गया कि बीते दिनों की तुलना में वाराणसी में मरीजों का रिकवरी रेट 20% से बढ़कर 80% हो चुका है।

रिकवरी रेट में चार गुना की हुई बढ़ोतरी

जंतु विज्ञान के प्रोफेसर प्रोफेसर ज्ञानेश्वर चौबे ने बताया कि अगर बनारस में कोविड स्थिति देखी जाए तो दो तीन चीजें काफी हद तक साफ है कि जो रिकवरी रेट 15 अप्रैल को 20% के आसपास था। वह पिछले चार-पांच दिनों में 80% तक चला गया है। इस तरह से रिकवरी रेट में 4 गुने से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है।

जल्द टूटेगी वायरस की चेन

दूसरी बात पर गौर करें कि अभी तक जितने वैक्सीनेशन हुए हैं, वाराणसी में या इंफेक्शन हुए हैं और जो लोग एंटीबॉडी कैरीज भी कर रहे हैं, सभी को काउंट करें तो इन सभी को मिलाकर वाराणसी में लगभग 5 लाख से ऊपर पापुलेशन इस वायरस के अगेंस्ट इम्यूनिटी ले चुकी होगी। अगर इन आंकड़ों को माने तो लगभग तो 40 से 50 परसेंट लोग जब इनफेक्टेड होते हैं तो वायरस के संक्रमण दर घट जाएगी और वायरस की चेन भी टूट जाएगी तो उम्मीद है कि अगले 2 से 3 सप्ताह में इंफेक्शन का नंबर सैचुरेशन लेवल तक पहुंच जाएगा और फिर केस भी कम आएंगे और कोरोना की चेन भी टूटेगी।

दो से तीन हफ्ते में कोरोना संक्रमण में आएगा सुधार

उन्होंने आगे बताया कि अगले 2 से 3 सप्ताह में इंफेक्शन का लेवल सेचुरेशन तक पहुंच जाएगा और नए केसेस कम आने लगेंगे क्योंकि वायरस को मीडियम नहीं मिलेगा। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने सावधान भी किया कि हमको सतर्क रहना पड़ेगा और संक्रमण से बचना पड़ेगा। जब हम इस के इंफेक्शन को कम कर देंगे तो इसके चैन को भी तोड़ लेंगे।

Related posts

ज्योतिष आचार्य काली कृष्ण की दुकान पर छापा : मेरठ

Arun Prakash

पाकिस्तान पुलिस ने किया हाफिज सईद के साले अब्दुल रहमान को गिरफ्तार

bharatkhabar

अंटार्कटिका में मिला दुनिया का सबसे बड़ा और पुराना अंडा, देखकर लोगों की फटी आंखें..

Mamta Gautam