featured यूपी

जबरन रिटायर किए गए पूर्व आईपीएस ने जारी किए पुराने पत्र, लगाया आरोप

जबरन रिटायर किए जाने पर पूर्व आईपीएस अनुराग ठाकुर ने जारी किए पुराने पत्र, लगाया आरोप

लखनऊ। गृहमंत्रालय की तरफ से जबरन रिटायर किए गए पूर्व आईपीएस अमिताभ ठाकुर ने बुधवार को अपना रिएक्शन दिया है। जबरन रिटायर के बाद पूर्व आईपीएस ने सरकार को लिखे अपने पत्र सोशल मीडिया पर सार्वजनिक कर दिए हैं।

अमिताभ ठाकुर ने पत्र के माध्यम से ट्वीट किया है और लिखा है कि चार दिसंबर को उनके लिखे पत्र आज बहुत प्रासंगिक लग रहे हैं।

चार दिसंबर को लिखे थे पत्र

बता दें कि चार दिसंबर को उन्होंने पत्र में लिखा था कि कथित रूप से असुविधाजनक और अप्रिय होने के साथ-साथ मुकदमेबाज होने के कारण उन पर ये कार्रवाई की गई है।

उन्होंने लिखा था कि उच्चस्तरीय दबाव के कारण उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति के उच्चस्तरीय निर्देश हुए हैं, जिसका शीघ्र क्रियान्वयन होगा।

‘जबरन रिटायरमेंट मनमाना कदम’

अमिताभ ने पत्र में कहा था कि अगर ऐसा किया गया तो ये बहुत ही अन्यायपूर्ण और मनमाना व्यवहार होगा, जिसका उद्देश्य प्रशासनिक सिस्टम में अवांछित कर्मी को हटाना नहीं बल्कि इस प्रावधान का प्रयोग करते हुए व्यवस्था में बैठे ताकतवर स्थानों पर बैठे लोगों के लिए असुविधाजनक और अप्रिय व्यक्ति को व्यवस्था से अलग करना होगा।

नहीं हूं अवांछनीय कर्मचारी: अमिताभ

अमिताभ ने कहा था कि वे किसी भी प्रकार से गलत कर्मचारी नहीं हैं बल्कि यह संभव है कि वे व्यवस्था में बैठे ताकतवर लोगों के लिए असुविधाजनक तथा अप्रिय हों। उन्होंने अपने ऊपर फर्जी ढंग से विभागीय कार्रवाई शुरू करने तथा उन्हें लंबे समय तक जानबूझकर लंबित रखे जाने की बात कही थी।

सरकार ने तीन आईपीएस पर की है कार्रवाई

बता दें कि दागी और सुस्त अधिकारियों के खिलाफ सरकार ने कार्रवाई की है। यूपी कैडर के आईपीएस राजेश शंकर, राजेश कृष्णा और अमिताभ ठाकुर को सेवाकाल पूरा होने से पहले ही अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी है। गृह मंत्रालय ने इन अधिकारियों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति का निर्णय लिया है। गौरतलब है कि ये पहला मौका होगा जब यूपी के तीन आईएएस अधिकारियों पर एक साथ ये कार्रवाई की गई है।

Related posts

उत्तराखंडःमुख्यमंत्री ने दून अन्तर्राष्ट्रीय पशु एवं कृषि मेला-2018 का उद्घाटन किया

mahesh yadav

सरकारी खर्च पर RSS कार्यकर्ताओं की फौज तैयार कर रही भाजपा- अखिलेश यादव

mahesh yadav

ईद-ए-मिलाद: पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब के जन्मदिवस पर की जाती हैं दुआएं

Samar Khan