ताजमहल का दीदार करने आए विदेशी पर्यटक बंदरों के आतंक का शिकार हो गए

नई दिल्ली। ताजमहल का दीदार करने पहुंचे दो विदेशी पर्यटक बंदरों के आतंक का शिकार हो गए। बंदरों ने मंगलवार को ताजमहल में मौजूद भीड़ पर हमला कर दिया। पर्यटक कुछ समझ पाते इससे पहले ही बंदरों ने एक महिला पर्यटक के पैर में काट लिया। इसके बाद बंदरों ने एक और पर्यटक पर हमला किया। ताजमहल प्रभारी अंकित नामदेव ने बताया कि घायल पर्यटकों को प्रारंभिक उपचार मुहैया कराया गया है। ये दोनों विदेशी पर्यटक फ्रांस के हैं। प्राथमिक इलाज के बाद दोनों आगरा से रवाना हो गए। ये भी बताया जा रहा है कि लखनऊ से ताजमहल देखने आईं श्वेता सिंह के बेटे प्रत्यूक्ष सिंह को भी बंदरों ने काट लिया। प्रत्यूक्ष को भी प्राथमिक उपचार दिया गया है।

कहां से आए बंदर?

बता दें कि आगरा में सुबह से ही पर्यटकों की भीड़ थी। मुख्य मकबरे के पास पर्यटकों की भीड़ लगी हुई थी। इसी बीच यमुना की तरफ से बंदर आ गए। बंदरों की घुड़की से पर्यटक सहम गए और चीख पुकार मचाने लगे। इसी बीच बंदरों ने पर्यटकों पर हमला कर दिया। इससे पर्यटकों में भगदड़ मच गई। बंदरों ने एक महिला पर्यटक का पैर पकड़ लिया। उसे बचाने के लिए साथी पर्यटक आगे आए तो उन पर भी बंदरों ने हमला कर दिया। पर्यटकों की चींखें सुनकर सीआईएसएफ के जवान उन्हें बचाने पहुंचे। उन पर भी बंदरों ने अटैक करने की कोशिश की।

साथ ही बंदर की घुड़की के बाद जवानों ने डंडे उठा लिए, लेकिन इसके बाद भी बंदर वहां से नहीं भागे। बाद में बमुश्किल बंदरों को ताजमहल परिसर से बाहर खदेड़ा जा सका। घटना के बाद लोग दहशत में आ गए। करीब एक घंटे तक पर्यटक डर और दहशत में रहे।