Breaking News featured देश

बातचीत के जरिए सुलझाए कश्मीर मुद्दा ताकि खत्म हो आतंकवाद : फारुख

Farooq said as to resolve terror in Kashmir talk with neighbor countries बातचीत के जरिए सुलझाए कश्मीर मुद्दा ताकि खत्म हो आतंकवाद : फारुख

श्रीनगर। जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला ने शुक्रवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान बातचीत के जरिए कश्मीर मुद्दे को सुलझाएं, ताकि इलाके में आतंकवाद खत्म हो। उनका यह बयान दोनों देशों के बीच गतिरोध को लेकर विपक्षी दलों की चर्चा के बाद आया है। घाटी में जारी अशांति की वजह से तीन महीने से ज्यादा समय से सामान्य जनजीवन प्रभावित है। विपक्षी दलों की एक बैठक में अब्दुल्ला ने संवाददाताओं से कहा, दोनों देशों को बैठना चाहिए और कश्मीर मुद्दे पर बातचीत करनी चाहिए। आतंकवाद को खत्म करने का यही एकमात्र हल है, वर्ना यह बढ़ता जाएगा। फारूख ने घाटी में जारी अशांति के बाद पहली बार अपनी राय रखी है।

farooq-said-as-to-resolve-terror-in-kashmir-talk-with-neighbor-countries

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष ने कहा, हम सभी आगे की तरफ देख रहे हैं और पीछे नहीं देख रहे कि क्या घटित हुआ है। उन्होंने कहा कि सिर्फ बातचीत ही एक जरिया है, जिससे कश्मीर की समस्या खत्म हो सकती है और उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार से अलगाववादियों को साथ लेकर आंतरिक संवाद करने का आग्रह किया।

अब्दुल्ला ने कहा, जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी शांति के लिए पाकिस्तान जा सकते हैं तो हम अपने लोगों से बातचीत क्यों नहीं कर सकते।उन्होंने कहा कि आठ जुलाई को आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद कश्मीर घाटी में पैदा हुई आशांति को लेकर वह चिंतित हैं, जिसमें 90 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और हजारों लोग घायल हो गए। उन्होंने कश्मीर मुद्दे का ‘एक समाधान खोजने की जरूरत’ पर जोर दिया।

अब्दुल्ला ने हाल में हिंसा के दौरान जेल में बंद या अपने घरों में हिरासत वाले सभी अलगाववादी नेताओं की जल्द रिहाई की मांग की।विपक्षी दलों की यह बैठक उनके गुपकर रोड निवास पर कड़ी सुरक्षा के बीच हुई। कई विपक्षी दलों के नेताओं ने कहा कि उन्होंने कश्मीर के हालात और राज्य और केंद्र सरकार के निपटने के तरीके पर चर्चा की। बैठक में भाग लेने वालों में कांग्रेस के प्रमुख जी.ए. मीर और माकपा के राज्य सचिव मोहम्मद युसूफ तारिगामी शामिल रहे।

Related posts

कोरोना के बढ़ते कहर पर मायावती चिंतित, कहा- कोरोना को गंभीरता से ले सरकार

Aditya Mishra

डीजी कानून बोले, शांतिपूर्ण तरीके से किया गया विरोध प्रदर्शन, यूके पुलिस ने बरती सावधानी

Trinath Mishra

लक्ष्‍मी पूजन कर बनाऐं बिगड़े काम, जाने विधि एवं महत्व

Trinath Mishra