January 28, 2022 6:47 pm
featured पंजाब राज्य

टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने तेज किया प्रदर्शन, सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर का किया विरोध

Manohar Lal Khattar farmer टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने तेज किया प्रदर्शन, सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर का किया विरोध

टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने प्रदर्शन किया। किसानों ने ये प्रदर्शन मुख्यमंत्री मनोहर लाल के बयान के विरोध में किया। किसानों ने कहा कि आखिर वह राजनीतिक दलों को मौका क्यों दे रहे हैं। किसानों की मांग पूरी करें ताकि किसान अपने घर लौट सके। वहीं पंजाब के किसानों का भी कहना है कि उन्होंने भी पंजाब के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन किया है। उन्होंने कहा कि हम अपनी मांगों को लेकर पंजाब से दिल्ली की बॉर्डर पर 9 महीने से बैठे हुए हैं। लेकिन सरकार सुनने को तैयार नहीं है। किसानों ने कहा कि हम कृषि कानून रद्द करवाने की मांग कर रहे हैं। हम आने वाली पीढ़ियों को बचाने के लिए आंदोलन कर रहे हैं।

बता दें कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के किसान आंदोलन को लेकर दिए गए बयान पर टिकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों में भी काफी रोष है। आंदोलनकारी किसानों ने टिकरी बॉर्डर धरना स्थल के पास मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के खिलाफ नारेबाजी की। वहीं किसानों का कहना है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर विरोधी दलों को क्यों मौका दे रहे हैं। अगर सरकार उनकी मांगे पूरी कर दे तो किसान खुद ही अपने घर लौट जाएंगे।

delhi farme 6568207 835x547 m टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने तेज किया प्रदर्शन, सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर का किया विरोध

वहीं पंजाब के किसानों ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि किसान पंजाब से आकर दिल्ली की सीमाओं पर अपने हकों की लड़ाई लड़ने के लिए बैठे हुए हैं। आंदोलन के जरिए वे आने वाली पीढ़ियों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन सरकार उनकी ओर ध्यान नहीं दे रही। किसानों का कहना है कि बीजेपी सरकार की जात पात की राजनीति अब और ज्यादा नहीं चलने वाली। काठ की हांडी बार-बार नहीं चढ़ती। आंदोलन करने वाले किसान किसी राजनीतिक पार्टी से संबंध नहीं रखते।

Prabhatkhabar 2020 12 528583f4 6f26 402c 94e2 d023b2b0fd6b 45760 kisan andolan टीकरी बॉर्डर पर किसानों ने तेज किया प्रदर्शन, सीएम मनोहर लाल खट्टर के बयान पर का किया विरोध

वहीं पंजाब के मुख्यमंत्री के खिलाफ भी आंदोलनकारी किसानों ने खूब प्रदर्शन किए हैं। तो ऐसे में कैसे आंदोलनकारी किसानों को पंजाब के मुख्यमंत्री का समर्थन हो सकता है। किसानों का कहना है कि सरकार उनकी मांगें जल्द मान लेती है, तो वह खुद ही अपने घर चले जाएंगे। आंदोलनकारी किसानों ने एक बार फिर से तीनों कृषि कानूनों को जल्द रद्द करने और एमएसपी को लेकर नया कानून बनाने की मांग उठाई है।

Related posts

प्रेस दिवसः जानें क्या है ‘प्रेस परिषद’ और इसके कार्य

mahesh yadav

डाटा लीक मामले पर बोले वॉट्सऐप के सह-संस्थापक, डिलीट कर दो फेसबुक

rituraj

अब ये आंतकी संभालेगा  हिज्बुल मुजाहिद्दीन की कमान, पेशे से है डॉक्टर, कर चुका है ये बड़े 5 पाप

Shubham Gupta