January 26, 2022 7:16 pm
Breaking News यूपी

भगवत कृपा से असाध्य साधन भी सम्भव: मुक्तिनाथानंद

WhatsApp Image 2021 07 14 at 7.42.08 PM 7 भगवत कृपा से असाध्य साधन भी सम्भव: मुक्तिनाथानंद

लखनऊ। बृहस्पतिवार के प्रातः कालीन सत् प्रसंग में रामकृष्ण मठ लखनऊ के अध्यक्ष स्वामी मुक्तिनाथानंद ने बताया कि भगवत् कृपा की इतनी महिमा शक्ति है कि वह मनुष्य को तत्काल ईश्वर दर्शन करा सकें। भगवान श्री रामकृष्ण ने एक दिन उनके एक अंतरंग भक्त मास्टर महाशय से कहा, “अभी-अभी मैं माँ से कह रहा था माँ अब मुझसे बका नहीं जाता और कह रहा था एक बार छू देने पर ही आदमी को चैतन्य हो।

योगमाया की महिमा ऐसी है कि वह गोरखधंधे में डाल देती है। वृंदावन की लीला के समय योगमाया ने वैसा ही किया और उसी के बल से सुबल ने श्रीकृष्ण से श्रीमती को मिला दिया था। जो आद्या शक्ति है, उस योगमाया में एक आकर्षण शक्ति है। मैंने उसी शक्ति का आरोप किया था।”

भगवान श्री रामकृष्ण के जीवन में हम यह देखते हैं कि जब वे कोलकाता के काशीपुर में निवास कर रहे थे तब 1 जनवरी 1886 ई. मे वह सब भक्तगणों के बीच उपस्थित होकर सबको बारी-बारी से छूने लगे और यह कहने लगे “तुम्हारा चैतन्य हो जाए।”

आश्चर्य होकर भक्तगणों ने देखा कि प्रत्येक का तत्काल आध्यात्मिक चैतन्य लाभ हो रहा है और अपना-अपना ईष्टमूर्ति हृदय में दर्शन करते हुए आनंद सागर में गोता लगे रहे है। उन्होंने कहा कि भगवान का यह अलौकिक शक्ति जीवों के लिए उपलब्ध है।

अतएव इन बातों पर विश्वास रखते हुए यदि हम भगवान के चरणों में व्याकुल होकर प्रार्थना करें कि आपकी अहेतुक कृपा से हमारे आध्यात्मिक जीवन में चैतन्य लाभ हो जाए। तब वह अवश्य हमारे भीतर अज्ञान के अंधकार को ज्ञान का रोशनी से भर देंगे एवं हम ईश्वर दर्शन करते हुए तथा चैतन्य लाभ कर जीवन सार्थक कर लेंगे।

Related posts

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद गर्भवती महिला को मिला ‘तलाक, तलाक, तलाक’

Pradeep sharma

सुप्रीम कोर्ट का आदेश, सिख दंगों से जुड़े 186 मामलों की फिर हो जांच

Breaking News

डेविड वॉर्नर मैदान में उतरते ही हो जाते हैं आक्रामक और खतरनाक: ब्रॉड

Breaking News