छोटे ब्रेस्ट से आती है शर्म, तो करें ये योगासन मिलेगा लाभ

नई दिल्ली।  अक्सर लड़कियों के लिए उनके बड़े और छोटे स्तन समस्या बन जाते हैं जब भी किसी लड़के के बड़े स्‍तन होते हैं तो उन्‍हें हीन भावना का शिकार होना पड़ता है। वैसे ही अगर उनके स्तन छोटे होते हैं तो भी उनके लिए काफी समस्या और शर्म का विषय बन जाती है। आज हम आपको कुछ ऐसे योगासन के बारें में बताने जा रहे हैं जिनसे आप छोटे स्तनों की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

वैसे तो इन दिनों बाजार में स्‍तनों के आकार को बढ़ाने के लिए कॉस्‍मेटिक, पिल्‍स, मसाजिंग क्रीम से लेकर ब्रेस्‍ट इनलार्जमेंट के लिए सर्जरी भी उपलब्‍ध है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि केवल योगा करने मात्र से ही आप अपने ब्रेस्‍ट के साइज को दोगुना कर सकती हैं।

जी हां, योगा करने से आपके शरीर को कोई साइड इफेक्‍ट नहीं होगा और तो और आपके पैसे भी बचेगें और पूरा स्‍वास्‍थ्‍य लाभ भी मिलेगा। योगा आपकी खूबसूरती में चार चांद लगा सकता है इसलिए समय मिलने पर आज से ही बताए गए इन 5 योगासनों को अपनी जिंदगी में अहमियत देना शुरू कर दें।

भुजंगासन

भुजंगासन इस आसन को कोबरा पोज भी कहते हैं। इसे करना बेहद आसान है। यह आपके छोटे स्‍तनों को कम समय में बड़ा करने तथा उन्‍हें सही आकार देने में लाभ पहुंचाएगा। आप इसे सुबह सुबह या फिर दोपहर के लंच से 3-4 घंटे बाद कर सकती हैं। इस पोज को करते वक्‍त कम से कम 20-30 सेकंड तक उसी अवस्‍था में रहें। इस पोज से आपके ब्रेस्‍ट के आस पास के मसल्‍स में खिंचाव आएगा, जिससे ब्रेस्‍ट का साइज बढ़ेगा।

धनुरासन

धनुरासन इस आसन को बो पोज भी कहते हैं। इसमें शरीर का आकार धनुष की तरह बन जाता है। आप इस आसन को सुबह या फिर शाम को कर सकती हैं। इसे करते वक्‍त कम से कम 40-60 सेकंड तक उसी अवस्‍था में रहें। धनुरासन से ब्रेस्‍ट के आस पास की मासपेशियों में खिचाव आता हैं जिससे ब्रेस्‍ट के पास ब्‍लड सर्कुलेशन बढ जाता है।

गोमुखासन

गोमुखासन इस योगा को काऊ पोज़ भी कहा जाता है। यह पोज आपकी ऊपर की बॉडी के द्वारा किया जाता है। जिसको करने के लिए अपने हाथो को कंधे के सीध ले कर जाएं। अपने उलथे हाथ को पीछे की और लेकर जाएं सीधे हाथ को भी पीछे ले जाते हुए दोनों हाथ को छूने की कोशिश करें। इस अवस्था को अपोजिट डायरेक्शन मे फिर से दोहरिये। इससे आपको बहुत फायदा मिलगा।

वृक्षासन

वृक्षासन को ट्री पोज़ भी कहते हैं। आप इस योग को सुबह या शाम के समय कर सकती हैं। इसे करते वक्‍त अपने पैरों को कम से कम 1 मिनट तक इसी पोजिशन में बनाए रखें। इससे ब्रेस्‍ट की टिशूज स्‍ट्रेच होती है जिससे ब्रेस्‍ट को बढ़ाने में मदद मिलती है।

उष्ट्रासन

उष्ट्रासन को कैमल पोज़ भी कहा जाता है। इसे करने के लिए आप अपने घुटनों के बल आराम से बैठ जाए। अब आप थोड़ा सा पीछे की और झुक कर अपने सीधे हाथ से अपने सीधे पैर के एंकल को छुए और अपने उल्टे हाथ से उल्टे पैर के एंकल को छुए और इस पोजीशन मे आप कम से कम 5 से 10 मिनट तक रहे। इस अवस्था को कम से कम 10 बार जरूर करें।