jahaz प्रशांत महासागर में मालवाहक जहाज़ से गिरा इंजीनियर, 14 घंटे समुन्द्र में तैरने के कठिन परिश्रम से बचाई अपनी जान

विश्व – आज एक हैरतअंगेज़ वाकया से आपको रूबरू करा दे। ‘जाको राखे साइयां मार सके न कोय’ यह कहावत आपने कई बार सुनी होगी लेकिन मालवाहक समुद्री जहाज के एक इंजीनियर पर ये बिल्कुल सटीक बैठती है। बताया जा रहा है कि प्रशांत महासागर में एक माल वाहक जहाज़ से एक इंजीनियर समुद्र में गिर गया तथा 14 घंटे समुन्द्र में बिताने के बावजूद इंजीनियर सुरक्षित बच निकला।

समुद्री कचरे का एक टुकड़ा पकड़ने से बची जान –
बता दे कि 52 वर्षीय विदाम पेरवर्टिलोव सिल्वर सपोर्टर नामक मालवाहक जहाज से उस वक्त गिर गए जब जहाज न्यूजीलैंड के तौरंगा बंदरगाह और पिटकेर्न द्वीप के बीच अपने नियमित सफर पर था। समुद्र में गिरने के बाद इंजीनियर को कई किलोमीटर दूर क्षितिज में छोटी काली बिंदु दिखाई दी। जभी उन्होंने उसकी तरफ तैरना शुरू किया। इस दौरान उन्होंने खुद को पानी में जीवित रहने के लिए संघर्ष करते हुए पाया। दरअसल, नाविक प्रशांत महासागर में बिना लाइफ जैकेट के गिर गए और समुद्री कचरे का एक टुकड़ा पकड़ने से जीवित रहने में कामयाब रहे।

काली बिंदु असल में था मछली पकड़ने वाला बुआ –
विदाम ‘ब्लैक डॉट’ तक पहुंचने में कामयाब रहे मगर ये मछली पकड़ने वाला बुआ निकला और उन्होंने रेस्क्यू किए जाने तक उसे पकड़े रखा। बता दे कि जहाज़ का क्रू मेंबर इस घटना से पूरी तरह नावाकिफ था। जिसके चलते सभी लोग आगे बढ़ गए थे। जहाज के चालक दल को ये समझने में छह घंटे लग गए कि उनका इंजीनियर गायब है। जब उन्हें इसकी जानकारी हुई तो कैप्टन ने जहाज को चारों ओर घुमाया। लेकिन इससे कुछ फायदा नहीं हुआ। साथ ही बता दे कि इंजीनियर के लोकेशन का पता वर्क लॉग के जरिए चला। उनका अंतिम वर्क लॉग सुबह के चार बजे दिखा रहा था। उस वक्त तक जहाज के सहयोगी 400 नौटिकल मील दूर जा चुके थे। उन्होंने फ्रांस के नौसेना का साथ मिलने पर तलाशी अभियान शुरू किया। इस काम में फ्रांस के मौसम संबंधी सेवा ने भी उनकी मदद की। जहाज के दिखाई देने पर इंजीनियर ने हाथ हिलाया और आवाज दी। जहाज के एक यात्री ने उनकी आवाज सुनी। अंत में, इंजीनियर को सुरक्षित बचा लिया गया।

राजस्थान पुलिस भर्ती 2019: हाईकोर्ट का आदेश, राज्य स्तर पर जारी करें मेरिट

Previous article

‘सड़क पर बंगाल की राजनीति’, ममता के बाद अब स्मतिृ इरानी ने दौड़ाई स्कूटी

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.