student 1 शर्मनाक: अरुणाचल प्रदेश के एक स्कूल में शिक्षकों ने 88 छात्राओं को किया कपड़े उतारने पर मजबूर

ईटानगर। उत्तर-पर्वी राज्य अरुणाचल प्रदेश में एक शर्मनाक करने वाला मामला सामने आया है। यहां के एक लड़कियों के स्कूल में शिक्षकों ने सजा के तौर पर 88 छात्राओं के कपड़े उतरवा दिए। आपको बता दें कि इन छात्राओं ने प्रधानाध्यापक के खिलाफ कथित तौर पर गलत शब्दों का इस्तेमाल किया था, जिसको लेकर स्कूल के शिक्षकों ने इतनी घटिया सजा दी। इस मामले की पूरी जानकारी देते हुए अरुणाचल प्रदेश पुलिस ने बताया कि पापुमा पार के तनी हप्पा स्थित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की छठी और सांतवी कक्षा की 88 छात्राओं को शिक्षकों ने कपड़े उतारने की शर्मनाक सजा सुनाई।

student 1 शर्मनाक: अरुणाचल प्रदेश के एक स्कूल में शिक्षकों ने 88 छात्राओं को किया कपड़े उतारने पर मजबूर

बता दें कि ये मामला 23 नवंबर का है। वहीं ये मामला 27 नवंबर को तब संज्ञान में आया जब पीड़िताओं ने ऑल सागली स्टूडेंट्स यूनियन से संपर्क साधा। छात्राओं की शिकायत पर यूनियन ने स्कूल प्रबंधक के खिलाफ पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज करवा दिया। शिकायत में कहा गया है कि दो सहायक शिक्षकों और एक जूनियर शिक्षक ने 88 छात्राओं को अपने सामने कपड़े उतारने के लिए कहा। इन छात्राओं के पास से कागज मिला था, जिस पर प्रधानाध्यापक के खिलाक कथित तौर पर अपशब्द लिखे गए थे। वहीं जिले के पुलिस अधीक्षक तुम्मो अमो ने छात्र संगठन द्वारा प्राथमिकता दर्ज करवाए जाने के बाद ये मामला सबके संज्ञान में आया।

उन्होंने बताया कि मामला यहां महिला पुलिस थाना को सौंप दिया गया है। महिला थाने की प्रभारी ने बताया कि पीडि़ताओं और उनके माता-पिता के साथ-साथ शिक्षकों से पूछताछ की जाएगी। अरुणाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने इस घटना की निंदा की और कहा कि शिक्षकों की ऐसी जघन्य हरकत छात्राओं को प्रभावित कर सकते हैं। इसने एक बयान में कहा कि किसी बच्चे की गरिमा से छेड़छाड़ करना कानून और संविधान के खिलाफ है।

जम्मू-कश्मीर के बडगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़

Previous article

कोहरे के कारण 23 ट्रेनें लेट, 9 का समय बदला और 5 रद्द

Next article

You may also like

Comments

Comments are closed.