September 25, 2021 12:16 pm
featured यूपी राज्य

रमजान में इफ्तार और सहरी के वक्त भीड़ इक्कठा न होने दें: सीएम योगी

cm yogi 1 रमजान में इफ्तार और सहरी के वक्त भीड़ इक्कठा न होने दें: सीएम योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि लॉकडाउन का मतलब टोटल लॉकडाउन है। इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि रमजान का महीना प्रारम्भ हो रहा है। इस दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। सीएम योगी ने अधिकारियों से सहरी व इफ्तार के समय किसी भी प्रकार की भीड़ इकट्ठी नहीं होने देने की बात भी कही।

बता दें कि एक उच्चस्तरीय बैठक में लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा के दौरान सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा कि लॉकडाउन का सख्ती से शत-प्रतिशत पालन सुनिश्चित कराया जाए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि शेल्टर होम्स से घर भेजे गए लोगों व कोटा से प्रदेश वापस लौटे बच्चों को होम क्वारंटाइन का पालन करने के लिए मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 के माध्यम से अवगत कराया जाए।

कोरोना मुक्त जिलों में भी बरतें सतर्कता

प्रदेश के 10 और जिले भी कोरोना संक्रमण से मुक्त हो गए हैं। 22 जिले पहले से ही इस महामारी की चपेट से बाहर हैं। अब कुल 32 जिलों में कोरोना का कोई एक्टिव पेशेंट नहीं है। सीएम योगी ने कहा कि कोरोना संक्रमण से मुक्त जिलों में भी पूरी सतर्कता और सावधानी बरती जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी भी दशा में सुरक्षा चक्र टूटने न पाए।

https://www.bharatkhabar.com/pa-corona-positive-of-bjp-metropolitan-president-in-meerut-western-up/

कोरोना मुक्त जिलों में शुरू हों औद्योगिक इकाइयां

उन्होंने कहा कि भारत सरकार के दिशा-निर्देशों और शासन के नियमों का पालन करते हुए उन जिलों में औद्योगिक इकाइयों का संचालन कराया जाए जो कोरोना वायरस से प्रभावित नहीं है। उन्होंने कहा कि परियोजनाओं के लिए इस्तेमाल होने वाली विभिन्न प्रकार की निर्माण सामग्री के आवागमन की अनुमति दी जाए। इसके तहत भट्ठों से ईंट तथा बालू, मोरंग तथा सरिया लाने की अनुमति दी जाए।

गेहूं और गन्ना की कटाई के लिए श्रमिकों की कमी नहीं

बाद में अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में 12 हजार ईंट भट्ठों में 12 से 15 लाख श्रमिक कार्यरत हैं। उन्होंने बताया कि सात हजार औद्योगिक इकाइयों में लगभग 1.25 लाख लोग काम कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि 119 चीनी मिलों में लगभग 60 हजार मजदूरों को काम मिला है। मनरेगा के श्रमिकों को कार्य मिला है। लम्बे समय के बाद पहली बार गन्ना व गेहूं की कटाई में श्रमिकों की उपलब्धता के संबंध में कोई दिक्कत नहीं है।

Related posts

नई स्टडी में दावा: डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ 8 गुना कम असरदार हैं कोरोना वैक्सीन

Rahul

करोड़ों की जमीन पर कबाड़ियों को बसाने वाले दो भाइयों का पर्दाफाश, जल्द होगी गिरफ्तारी

Aditya Mishra

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के स्वागत के लिए पूरी तरह तैयार हुआ अहमदाबाद

Rani Naqvi