August 16, 2022 10:15 am
featured यूपी हेल्थ

त्यौहार के सीजन में ऐसे पता करें मिलावटी और सही दूध में फर्क

त्यौहार के सीजन में ऐसे पता करें मिलावटी और सही दूध में फर्क

लखनऊ: त्यौहार का सीजन आते ही मिलावटी सामान बाजार में उपलब्ध होने लगता है। आए दिन कई तरह की चीजें पकड़ी जाती हैं, जिनमें काफी मिलावट का सामान शामिल होता है।

दूध में होती है सबसे ज्यादा मिलावट

दूध सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला पदार्थ है। इससे त्यौहार के सीजन में कई व्यंजन बनाए जाते हैं, जिनमें खीर, मिठाई, पनीर, खोया इत्यादि शामिल है। मिलावटी दूध आपकी सेहत और त्यौहार के रोमांच को बर्बाद कर सकता है। इसको खाने से आप अस्पताल भी पहुंच सकते हैं। इसीलिए सही और मिलावटी दूध की पहचान करना काफी जरूरी हो जाता है।

पहचान करने के कुछ आसान तरीके
  • मिलावटी दूध की पहचान करने के लिए सबसे पहले धार बनाकर दूध को गिराएं। अगर इसमें से झाग निकलने लगे तो दूध मिलावटी है।
  • मिलावटी दूध से बनने वाला पनीर भी रबड़ की तरह खिंचने लगता है। ऐसे में इस तरह के उत्पाद लेने से आप को बड़ा नुकसान हो सकता है।
  • मिलावटी दूध का स्वाद भी काफी कड़वा होता है, जिसे आप आसानी से चख कर पता लगा सकते हैं। इससे बनने वाली मलाई भी प्लास्टिक के जैसी होती है, जिसकी मुलायम होने की प्रकृति खत्म हो जाती है।
  • दूध शुद्ध होने पर उबालते ही इसमें अच्छी खुशबू आती है। इसके साथ ही उस पर पड़ने वाली मलाई भी काफी मुलायम और साफ नजर आती है।
  • इसका प्राकृतिक वसा वाला हिस्सा भी नजर आने लगता है। शुद्ध दूध से बनने वाला पनीर मुलायम होता है, जिसका स्वाद भी काफी सामान्य रहता है।
  • सही दूध को अगर आप हाथ में लेते हैं तो यह लोशन जैसा गाढ़ा नहीं लगता है। जबकि मिलावटी दूध गाढ़ा चिपचिपा लोशन जैसा होता है।

होली को देखते हुए अब अलग-अलग भागों से मिलावटी सामान पकड़े जाने की खबरें आने लगी हैं। इस पर लगातार विभाग कड़े एक्शन ले रहा है लेकिन उपभोक्ता के तौर पर हमारी जिम्मेदारी भी अहम हो जाती है। इसीलिए जरूरी है कि त्यौहार में सही और शुद्ध उत्पाद का ही सेवन करें।

Related posts

शाहजहांपुर में छात्रा को ज़िंदा जलाकर फेंका, पिता ने लगाए तीन युवको पर जलाने के आरोप

Aman Sharma

नीली बत्ती लगाकर खुद को बताते थे असिस्टेंट कमिश्नर, लखनऊ पुलिस ने दबोचा

Shailendra Singh

ब्रह्म ज्ञानी की आत्मा देह के बंधन से मुक्त रहती है: मुक्तिनाथानन्द

Aditya Mishra